पंद्रह अगस्त के बाद | Pandrah August Ke Baad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : पंद्रह अगस्त के बाद - Pandrah August Ke Baad

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सच्चा इस्लाम ७ फिर वहू किसी भी रंग और बनावटका हो, पाकिस्ताने रहनेवाले किसी भी धर्मके लोगोकी एक-सी नुमाइंदगी करता हूं तो से उसे सलामी दूंगा और आपको भी देनी चाहिए । दूसरे शब्दोमे, दोनो उपनिवेशोको एक दसरेके दुरुमन नही बनना चाहिए । राष्ट्‌-सध (कामनवेल्थ)के उपनिवेश या डोमिनियन एक दुसरेके दुश्मन नही हो सकतें । में दुःखभरी दिलचस्पीसे देख रहा हूं कि दक्षिण अफ्रीकाका उपनिवेश हिदुस्तानके दो उपनिवेशोंके साथ कसा बरताव करता है । क्या दक्षिणी अफ्रीकाके गोरे अब भी हिंदुस्तानियोसे नफरत कर सकते हे * क्या दक्षिणी अफ्रीकाके यूरोपियन हिंदुस्तानियों के साथ, रेलके एक ही डिब्बेमे सफर करनेसे भी, सिफ॑ इसलिए इन्कार कर सकंगे कि वें हिदुस्तानी है ? नई दिल्‍ली, २९-७-४७ १२} सचा इस्लाम एकं मुसलमान भाईने जो पत्र मेरे पास भेजा था, उसमेसे , निजी जिक्रको छोडकर वाकी मै नीचे दे रहा हु “इस्लाम सारी दुनियाका धर्म है। उसका महान्‌ संदेश है सत्यके लिए कोशिश करना श्रौर उसे पहचानना । मौलाना जलालुद्दीन रूमीकी नीचे दी गई कवि तपते यह्‌ साफ मालूम होता है कि ख़लीफा श्रली जैसे महात्मा्भरोको भौ सत्यको पानेके लिए कितनी बड़ी ।कोशिश' करनी पड़ती हैः




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now