श्री वीश स्थानक तप विधि | Shri Veesh sthanak tap Vidhi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री वीश स्थानक तप विधि - Shri Veesh sthanak tap Vidhi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मुनि मंगलसागर - Muni Mangalsagar

Add Infomation AboutMuni Mangalsagar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( ७ ) | रचना करे और इस्द्रष्वज चढ़ावे सैप्यमयी अष्ट साङ्- ' लिक चढ़ाषे, सुन्दर वर्ण गंधयुक्त पुष्प फठादि सामान रखे, और विविध प्रकारका पकवान चढ़ावे, भण्डारमें यथाशक्ति द्रव्य चढ़ाने, केवलज्ञानकों उत्सव करे और जिनविम्परं करावे, इस प्ररफार छ मास पन्त अरिहन्त पदके भाराधनसे सर्वेष्ट सिद्धि होती है । अरिहन्त पद के आराधनसे देवपालादिक सुखी हुए । | इति प्रथम पदराधनं बिधि ॥ ॥ अथ द्वितीय पदाराधन विधि ॥२॥ ( मोला-- ) 5 नमो सिद्धाण” इस पदकी २० माला फेरे । ( खमासमण-- ) १ सतिज्ञानावर्णि कम रहिताय सिद्धाय नमः २ श्र तज्ञानावर्णि कम रहिताय सिद्धाय नमः ३ अवधिन्नानावर्णि कम रदिताय सिद्धाय नमः




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now