भूगोल भरमान भ्रान्ति भाग १ | Bhugolbhraman Bhranti Volume-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भूगोल भरमान भ्रान्ति भाग १ - Bhugolbhraman Bhranti Volume-1

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
५ ` - {९७ ) १0.14 = जः ध ६ रे फहए/1. ,0छ0012 एप 820, 8, 6. छह्तएणछी घाशोरडड 06. 00007108 08900 1 2व ॥0पाए8, १.) ~ न° १४ मेन्यु्रल जोगरफी सपन ८ ५ पृथिवी अपने झक्ष पर २४ घंटे में एक'बार घूम जाती हें । ४४ अगाथ-पथिकी कीं परिधि२४६०० मीक २४ घंटे में घूमती हैं धरे १०३७ मील पौरं फी मिनट १७ भीकष फी भ $, सेकिंड १४६६ फीट के करीब । ममो र 4 ५ 0.15 श ^ र0 1. ^ पए 6806, (90) २/6 49. (1911) + 47. के 99 ' .ृण6 सड ० ६16 ण्डाः 8०५९ 01 78 € पिण०8 (॥ ४४९. आक्षपाधश्य 166, । प नते




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now