महावीर क्या थे | Mahaveer Kya The

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Mahaveer Kya The by मुनि नथमल - Muni Nathmal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

Author Image Avatar

मुनि नथमल जी का जन्म राजस्थान के झुंझुनूं जिले के टमकोर ग्राम में 1920 में हुआ उन्होने 1930 में अपनी 10वर्ष की अल्प आयु में उस समय के तेरापंथ धर्मसंघ के अष्टमाचार्य कालुराम जी के कर कमलो से जैन भागवत दिक्षा ग्रहण की,उन्होने अणुव्रत,प्रेक्षाध्यान,जिवन विज्ञान आदि विषयों पर साहित्य का सर्जन किया।तेरापंथ घर्म संघ के नवमाचार्य आचार्य तुलसी के अंतरग सहयोगी के रुप में रहे एंव 1995 में उन्होने दशमाचार्य के रुप में सेवाएं दी,वे प्राकृत,संस्कृत आदि भाषाओं के पंडित के रुप में व उच्च कोटी के दार्शनिक के रुप में ख्याति अर्जित की।उनका स्वर्गवास 9 मई 2010 को राजस्थान के सरदारशहर कस्बे में हुआ।

Read More About Muni Nathmal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
महावीर कया थे लोग इन्द्ियतृप्ति को सुख मानते हैं। सुख देन से सुख मिलता है-नयों उनको विचारणा है । भगवान ने बनापा-- जिनमे सुख क्षणिक होता है एन दुख चिर तन मर ज्निका परिणामं सुन्दर नदी होता वे काम माग गौर उनते होने वालो इद्द्रिय-तृति जो अतुन्ति बढ़ाती दे सुख नही दु लव है। यु तो आत्म रमण है । बह परिणाम मे सुन्दर है । उसते अन्त मं विषाद नदीं मिलता, अतुसि मूलक पर्तृप्ति नहीं होती ।” आत्मा का समाधान आत्मा मे है पुदुगल मे नष्टी। अपना समाधान अपने स ही. मिलता है । “पर मे स्व का आरोप था स्व पर का अम समाचान लाने वाला नहीं होता । समाधि का मांग यहो है कि आत्मां जपने ही क्षत्रं मे विचरे। पौदुगलिक पदार्घो मं वंध नहो भास्तक्न न बन । उनका मिन सम्त्रघ। विचार एक गहरी दण्ट देता है, मिन बाहर नही है । जहां स्वार्थ और प्रेम व ढ्वत रइता है. बड्ढा मैत्री आओपचारिक हो सकतो है तात्विक नहीं । एक आदमी का स्वाथे दूसरे के स्वार्थ से अत्यन्त जुड़ा हुआ हो हो नहीं सकता | प्रेम एक को हो द॑ -यह असम्मव जैसो बात है । मित्रता पूरी व प्रिलतो है जहाँ स्वाथ और प्रेम पूरे अमिन बनवर रहते है। मगवात्‌ मंशवीर कौ यह ललित वागी-- पुरिमा तुममेन तुम मित्त पि बहिथा मित्तमिच्दति --मदज हो मनुष्य का ध्मान दीष केनो है। तूही तेरा मिच बाहरकया स्वोजता है ? मित्र वद है जो हितं करे दु ल्न से छुगए.1 उन्होंने बताया-- तू अपने झाप पर कांवू पा अपने कौ जोत फिर घोच्र हो सर्वे दु खो हे छूट जाएगा । प स




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now