रवीन्द्र साहित्य भाग 16 | Ravindar Sahitya Bhag 16

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Ravindar Sahitya  Bhag 16 by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
धृतराष्ट्र--गान्धारी--गान्धासेसा आवेदन : काव्यकोपो कृपाणे पदी अचल दो सोती रहीं लुप्त वज़-नि भेपित विदुत-री 1 महाराज, सुनो मदाराज, मेरी विनय विनम्र आज, दूर करो जननीकी ज्जा ग्लानि, लजानत वीरताके धमैका उद्धार करो, मर्माइत विकल सतीत्वके दो आंसू पो, अवनत झुचि न्याय-वर्मृकी प्रतिष्ठा करो, तेण - वत्‌ त्याग दो दुर्योधनको !पश्चात्ताप - तापसे जो जजर हदय स्वत, उसपर करती दो चोट व्यथे, रानी तुम ।सौ-गुनी क्या मु, नाय, होती नहीं वेदना दै 2 दण्डितके किन्तु साथ एकर-सा आघात पाके जव दण्डदाता रोता तभी, प्रभु, वह सष्वा सर्वेत्करट न्याय दोत्ता । पाता नदीं जिसके किए है न्यथा प्राण॒ - मन, उसे दण्ड देना बलवानका है उत्पीढ़न । पुत्रको जो दण्ड-पीडा देनेमें हो असमथ, वृह किसी-ओौरको न देना कभी भूल व्यथै । पुत्र जो ठम्दारा नदी, उसके क्या पिता नही * मदा-अपराधी होंगे उसके निकट, कहीं न्यायाधीश उसके जोदोगे1 सुनती दू यद, विखव-विधाताकी हम सभी दँ सन्तान, वद नारायण पुत्रोंका विचार करता है स्थिर, अपने दी हाथों व्यथा देके व्यथा पाता फिर साथ-साथ, अन्यथा नदीं है अधिकारी वद न्याय करनेका कमी । मै द्र मूढ नारी, यद्‌१६




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :