गुप्त सिध्द प्रयोगांक | Gupt Sidha Prayogank

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Gupt Sidha Prayogank by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
केक अवधों डोर फार्मादियों को फेंग की जद हमारे यहां दबाओं के के लिये सब प्रकार के काडबोडे बक्स (खोलियां) एक रज् व # अनेक रहों में छापफर तैयार किये जाते हैं। सादा बक्से भी हर साइज के बिकनी के लिये तैयार हि रदते हैं । इन्जेक्शन व अन्य प्रकार के डिब्बे भी बनाने का समुचित प्रबन्ध है। ब्लाक व ड डिजायनिंग की भी व्यवस्था दे । इसके साथ दी वीसियों (प्रकार के बहुरंगे लेबिल-द्राधासव, हि. व अशोकारिष्ट, च्यननप्राश, नारायण-लाक्षादि तैल, गुलावजल, शबंतों के लेविल, सील देखकर माल है डे ख रीदो; नकालों से सावधान रहो, वालकसुधा आदि के सुन्दर श्ाकबंक लेबिल तैयार रहते हैं । गे व्यवस्थापत्र, सूचीपत्र व कलेर्डरों की छपाई दोती है। रंगीन व सादा काये॑ विजलों की - कु के मशीनों से होता है । इन कार्यों के लिये कलकत्ते के विशेषज्ञ कारीगर हैं । ही साथ ही टोटागढ़ पेपर मिर्स की एजेंघी दै अत: सब प्रकार के कागर्जों की श्राहको को ६ कु सुविधा रददवी दे । मिस के सब प्रकार के कागजों के अलावा रफ, भाटंपेपर, का डँबेडं,पैकिंगपेपर, हर #ँ सेलोलाइट आदि पैकिंग में काम ाने वाले सब कागज थोक व खेरोज से मिलते हैं। श् बै्यों व फॉर्मेसियो को एक साथ सब सुविधाएं देने के लिये ाप अपने चिरपरिचित-- ि है कांच नं १००: अप्रवाल प्रेस, मथुरा तार: प्रेस हर के नया सूचोपत्र मुफ्त मंगाये । [काडे विभाग] को सेवा का अवसर दें । न व कप कक कम कुक कक उककक रस: न: कि | पिसे का दुरुपयोग मत करिये | हमारे मोतीचूरा के व्यवद्दार करने से को वद्दी फल प्राप्त होगा-जो बढ़िया से बढ़िया मोतीचूरा के व्यवहार से प्राप्त होता दे । जिसने १ बार दमारे मोत्तीचूरा को व्यवहार कर लिया दे वहद बार-बार इसे संगाता दे यही इसकी उत्तमठा का सबसे बढ़ा अ्रमाण दे । यह मोती चूरा दो प्रकार का दे नम्बर एक का मोतीचूरा बह- मूल्य मोतियों का जो बांधने के काम में-नहीं ासकते हैं मिश्रण है। मूल्य केवल १०) तोला है । नं० २ का मोतीचूरा भी बहुत ही उत्तम दै-इसमें साबित मोती नम्बर ? से कम हैं किन्वु चूरा बढ़िया मोतियों का ही है । मूल्य ८) तोला है | एक शत यद भी दै कि मंगाने पर यदि 'आापके पसन्द हसारा सोतीचूरा न आये ऐलोपैथिक जगत में एक । हिन्दी भाषा की प्रथम उपयोगी पुस्तक पे चर लोपैथिक सार-सग्ह (दितीय-संस्करण) (घदाघद बिक रहा है झ्पनी प्रति शीघ्र प्राप्त करें) इस पुस्तक मे लेखक ने रोजाना काम में आने वाले ऐलोपैथिक विषयों को हिन्दी से विस्तारपृर्वक नये ढँँग से लिखा दै । इस पुस्तक पर सैकड़ों प्रशंसा-पत्र प्राप्त दो चुके है। इसमें चेचक का आधुनिक इलाज तथा आजमूदा सिक्‍्चर, 'झाई लोशन, सल्दमें व ६र श्रकार के इच्जेक्शन व्‌ पटेण्ट दवाये जिनका आविष्कार आाज तक हो चुका दै । एरोमाईसीन, क्लोरो- माइसेटीन, सल्फेट्रोन, पैनीसिलीन, दैट्रोजन, एट्र प्टोमाईसीन सल्फाचर्ग की 'मौपषघादि' उन सबके गुण य प्रयोग-विधि विस्तारपूर्वक वर्सन को गई है। आज ही आर्डर मेजकर पुस्तक रन व गा मिल वापिस कर सकते हैं |... दिक्न ता-मोडर्न मेडीकल स्टोर, भांसी (यू० पी०) पता-दाऊमंडीकल स्टोर्स, विजयगढ़ (अलीगढ) | विवि कि कि लवण तर डि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now