ज्ञान - कथाकुञ्ज | Gyan - Kathakunj

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Gyan - Kathakunj by डॉ. कस्तूरचंद सुमन - Dr. Kasturchand Suman

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ. कस्तूरचंद सुमन - Dr. Kasturchand Suman

Add Infomation About. Dr. Kasturchand Suman

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
ससार से भय उत्पन्न करनेवाली सवेजिनी कथाओ मे निम्न कथाएँ कही जा सकती है- वाणी संयम लाभप्रद मदनसुन्दरी की पति-सेवा रानी का अविवेक देह सौन्दर्य परीक्षा कौटुम्बिक जीवन की झाकी समी बहिन भी स्वार्थमय जैसी करनी वैसी भरनी ८ जीवन क्षणमगुर है भाई ६ परिवार-परीक्षा १० बुद्धिमान राजा बुद्धिमान चोर ११. गुण अवगुण सगति फले १२ दयावान युवराज्ञी १३ खाओ सब मिल बाटकर भोगो से वैराग्य उत्पन्न करने वाली कथाओ का भी ज्ञानसागर-वाडमय मे प्रयोग हुआ है। ऐसी कथाएँ पॉच है- १ वैरागी का व्याह २... भाई-भाई का बैर-स्नेह ३... कुलटा-नेहीं यशोधर ४ राज्यभोग की लालसा ५ भोगो की कुटिला उक्त कथा-भेदो के अतिरिक्त सामान्य नैतिक विषयो से सम्बन्धित कथाएँ भी व्यवहृत हुई है । वे है- १ मतिवर ग्वाला २ भावों का है खेल जगत मे ३... साधु दृष्टि = ~ + ० 4 ~ =




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now