रूस की चिट्ठी | Roos Ki Chitthi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Roos Ki Chitthi by धन्यकुमार जैन - Dhanykumar Jainरवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

धन्यकुमार जैन - Dhanykumar Jain

धन्यकुमार जैन - Dhanykumar Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
& खूसकी चिट्ठी:होता है कि मानो अवकाश-भोगी समान यहाँसे सदाके छिए विदा हो गया है। सभी-कोई अपने हाथ-पेरोंसे काम-घंधा करके जिन्दगी वित्ताते दैः वावूगीरीको पाल्शि कीं दै ही नहीं। डा० पेटोव नामक एक सज्ननके धर जनिका काम पड़ा, वे यहाँके एक प्रतिधिति आदमी हैः अचि सोहदेंदार । जिस भकानमे उनका दफ्तर है, वह पहले एक रईसका मकान था, पर घरमे असवा बहुत हौ कम ओर सजाबटकी तो चू तक नही--विना कार्पेटके फरीपर एकं कोनेमे मामूलोसी एक टेविर दै, संकषेपमे पिषटरवियोगमे नाई-घोची-चजित मशोच-दुशाका-सा खूखा-रूखा भाव दे-जैसे चाद्दरवाठके सामने सामाजिकत्ताकों रक्षा करनेकी उनको कोई गरज दही नहीं! मेरे यर्म जो खने-पीनेकी च्यवस्था धी, चह भन्ड-होटठे नामधारी पान्थावासफे छिए बहुत हो असंगत थी । परल्तु इसके लिए कोई संकोच सर्ही--प्योकि सभीकी एक-सी दशा है।मुखे सपने वचपनफी वात याद ठी है। सबकी जीवन- यात्रा जर उसा भायोजन अवकी तुलनमि कितना तुच्छ था; परत्तु उसफे ट्ष हमे किसके मनमे जरा भी संकोच नहीं धा; कारण, तमके संसार-यात्राके आदर्शमे वहतं ऊंच-नोचका भाव नहीं था--सभीके घर एक मामूली-सा चाउ-चलन था-- फरू था सिफ पा्डित्यका, चानी गाने-घजाने आोर लिखने-पटने आदिका 1 इसके सिंचा छोक्रिक रोतिमे पार्थक्य था; सर्थात्, भाषा, भाव-भगा आर साचार-विचारगत विशेपत्व था। परन्तु त्वं




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :