सरल गृह चिकित्सा | Saral Grih Chikitsha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सरल गृह चिकित्सा - Saral Grih Chikitsha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सरन पह दिदिष्धा। २९. स्य दवा मदन्‌ वात सेगमे १०६ परो इोनेसे बड़ा हो कुनचर है। प्ररोरस्या उत्ता ८१९ होनेषे अयरनेशा दाया नहो रहतो। नाडो परेचा॥ एुष्धकाटशयिपोष्टीखातिङ वये हायडेक्त्ति के रूपर ( मचिदखनें ) दारवारसोन पष्टुनो रपड्े भाइोके फड़फ्नेशा मालुप करना चाहिये। गलेसें दा उच्देंशमें भी नाही एरोचा को वातो रे माणो परोदा (रदने। ब चउत रोगको कद देना शाडइिये कि किसी सर्फ घ्न गे देगी र्दात्‌ दरन्य सन रइना 'दाहिये। पसरष्दाङ अगुभार भाईको रतिका देग ते दा मग्द होता है । पर्दा । प्रति मिल्टिमें जिलनोदार । कष्मकाण्मे ९ दपं रदत १२ भ १४ ह पद पयण १० से ५० दे > ~ ० ४,१० १७ „ ८१ द ८ इन का &२ हि ७६. हृदारस्रा ९१ ष < इदासत्या 1 लिदोग पदन्दामें धदस्टाड ऋटुमार सामड़िदा हैग दा सद मो पोडशारर है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now