कलयुगलीला भजनावली [अंक 10] | Kalyuglila Bhajavanavali [Ank 10]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : कलयुगलीला भजनावली [अंक 10] - Kalyuglila Bhajavanavali [Ank 10]

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
एम १५) सुनयो हमारी हे जगवन्धू ॥ टे हितुदीनदयार खामी ॥१॥ दुख जल पूरण कठजुग सागर । न्या प्ट मंन्नपरार खामी २ तीर्थ राज इष गै सिखर पर । बंगढो करत सरकार खामी | यट सुनकर हम जनी दको । उपजो टै इक्वभपारखामी ४ | आन हमारी राज आधिकारी ! कौना सनत तुम स्री सव्र इत ही । तप हे तारणहार खामी ६ यह छ निज दू दाशन कारण लीनीहे शने तुष्धार खामी ७ कीचक अजन से तुम तारे । ठेना हमारी भी संभार खामी ८ रक्षा करो अब अन धरम की । सांबी हे तेरी सरकार खामी ९ न्यामत भारत जात रसातऊ । बेगी से लो ना उभार स्वामी १० १५ वक्र ॥ रुप कमी नहीं हारू दोरे पंडिता | धर्म कभू नहीं हारो मोरे साई ॥ टेक । धर्म के कारण श्रीरखुगई । त्याग दई थी सियारानी सुतदाई १ सीता सती जा अगनछंडपं। कूद पढ़ी थी मन इक न लाई ९ धर्म हेत लाखों सतियनने। दस्ख सहे ओर जान गंवाई । ३। सेठ सुदरशेन धर्म वचायों । जाए चढ़ें थे शूली दुख दाई । ४ । बावन रप क्रियो विश्नू मुनी । जा बरक धर अरुत जगाई ५ मानहुण सुगी धमं चञ्जयो । कष्ट सहे चन्दनम जाई ॥ ६॥ कलजुगम अब शेख सिखा पर। देखोतो कोन विपाति बनआएं७ जो इस गिर पर बंगढे बनेंगे। सगरी ही जन घरम एत जाई <




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now