जिनवाणी संग्रह | Jinvani Sangraha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Jinvani Sangraha by दुलीचंद परवार- Dulichand Parwar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
30 MB
कुल पृष्ठ :
814
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

दुलीचंद परवार- Dulichand Parwar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
परिजन सा भाः सक भक्तेब्रह्मचारी हनानदकतअति पुण्य उदब मम आया, प्रभु तुमस दशेन श्या । अ्ंतक तुमको विनजाने, दख पये निज गुण हाने ॥ पाये अनेते दुःखअबतक, जगतको নিজ जानकर। सर्व॑ माषिति जगत हितकर धमं नहि पदिचानकर ॥ भववध कारक सुखप्रहरक विषयमे सुखमानकर । निजपर विवेचककज्ञानमय सुखनिधि सुधा नहिं पानकर ॥१॥ तव पदं মম তম আব, लखिकुमति विमोह पलाये । निजज्ञान कला उर जागी, रुचि पूर्ण स्वहितमें लागी ॥ रुचिलगी हितमें आत्मके, सतसंगमें अब मन लगा। मनमें हुईं अब भावना, तब भक्तेमें जाऊ रंगा ॥ परियवचनकी हो येव गुणि गुण गानमें ही वितपगे। शुभ शास््रका नितहो मनन, मन दोषवादनतें भगे ॥२॥ कब समता उरमें छाकर, द्वादश अनुप्रेक्षा भाकर । ममता-३




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :