जिनवाणी संग्रह | Jinvani Sangraha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Jinvani Sangraha by दुलीचंद परवार- Dulichand Parwar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दुलीचंद परवार- Dulichand Parwar

Add Infomation AboutDulichand Parwar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
परिजन सा भाः सक भक्ते ब्रह्मचारी हनानदकत अति पुण्य उदब मम आया, प्रभु तुमस दशेन श्या । अ्ंतक तुमको विनजाने, दख पये निज गुण हाने ॥ पाये अनेते दुःखअबतक, जगतको নিজ जानकर। सर्व॑ माषिति जगत हितकर धमं नहि पदिचानकर ॥ भववध कारक सुखप्रहरक विषयमे सुखमानकर । निजपर विवेचककज्ञान मय सुखनिधि सुधा नहिं पानकर ॥१॥ तव पदं মম তম আব, लखिकुमति विमोह पलाये । निजज्ञान कला उर जागी, रुचि पूर्ण स्वहितमें लागी ॥ रुचिलगी हितमें आत्मके, सतसंगमें अब मन लगा। मनमें हुईं अब भावना, तब भक्तेमें जाऊ रंगा ॥ परियवचनकी हो येव गुणि गुण गानमें ही वितपगे। शुभ शास््रका नितहो मनन, मन दोषवादनतें भगे ॥२॥ कब समता उरमें छाकर, द्वादश अनुप्रेक्षा भाकर । ममता- ३




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now