हारमोनियम मास्टर भाग - 1 | Harmonium Mastar Part-i

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : हारमोनियम मास्टर भाग - 1  - Harmonium Mastar Part-i

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
डी _ प्रहिलाभाग .. . ६ किसी. दूसरे मनुष्य कों. सिखाना. छुछ . कठिन है इसके लिये .. कुछ परीक्षा द्रकार है प्रत्येक मनुष्य को यह योग्यता प्राप्त नहीं हो सकती- _ एक मोटा सा उदाहरण शिक्षा विभाग का देखिये कि .. बिना - नामल स्कूल . पास कियेहुये मास्टर की . मंतिष्ठा उतनी .. नहीं होती जितनी . कि पास किये की शालाओं में हुवा करती है कारण यह है कि नामेल स्कूल में वह इन वातों को जान लेता है कि. बालकों को किस मकार पढ़ाया जावे कि शीघ्र ः थी हुदयस्थ होजावे इससे हिंतेपी ने अपनी रचना में जहां तक होसका. मन भावते ढंग और सुगम नियम रवखे हैं जिससे ... दारमोनियरंट . आदि ऐसेही हारमोनियम के सीखनेत्राले भी दो एक कमसमक विधायी भी इस साज़ से भले मकार योग्यता ... मात करसके. जवाकि कुछ गाना भी जानता हो- हारमोनियसके शिक्षक । ०... हारमोतियम बजानेवाले दो मकार के होते हैं एक वह . शौकिया बजाते हैं दूसरे बह जो पेशेवर हैं जैसे मीरासी+ थ्रेटीकल शा है कक को प्रकार के होते हैं एक बह जो केवल पुस्तक केही द्वारा इस साज ...7 . को. बजाया करते हैं और शौकिया इसको. काम में लाते हैं ऐसे कप -- शिक्षक बिना . गुरु कहलाते हैं इनमें गायन के साथ -करने का बल नहीं. होता जो . कुछ पुस्तक में ते होती . हैं वही इनके 7 हदयस्थ होजाती हैं यादि यह किसी. गुरु से केवल एक मास . -.. सथवा दों मास. तक. स्वयं उनके . पास रहकर कछ सीखें तो .. ...अतिशीघ्र उत्तम मकार के. बजाने . वाले. होजावें-जों ._ बात॑




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now