पदसंग्रह [भाग 5] | Padsangrah [Bhag 5]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : पदसंग्रह [भाग 5]  - Padsangrah [Bhag 5]

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कविवर बुधजन जी - Kavivar Budhjan Ji

Add Infomation AboutKavivar Budhjan Ji

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( ५ ) ज्ञानमई हमको दरसाये । ऐसे ही हममें हम जानें, बुधजन गुन मुख जात न गाये ॥ श्रीजिन० ॥ ३ ॥ ९, नि ডি তি | ২ वधाई राज हो आज राजे, वधाई राज, नाभिरायके द्वार! इद्र सची सुर सन मिङि आये, सजि व्याये गजराज्ञै ॥ वधाई० ॥ १ ॥ जन्मसदनते सची पम रे, सोपि दये सुरराज । गजये धारि गये सुरगरिपे, न्टोन करने काजे ॥ वधाई० ॥ २ ॥ आठ सहस सिर करस जु ठरे, पुनि सिंमार समाज । स्याय घौ मरुदेवी करमे, हरि नाच्यो खख साजे 1! बधाई० !! ३ ॥ ठुच्छन व्यजन सहित सुभग ततन, कंचनदुति रवि रजे ! या छवि बुधजनके उर निशि दिन, तीनह्ञानज्ुत राजञ ॥ वधाई० ॥ ४ ॥ १० ज क तिता । ८ हो जिनवानी जू , तुम मोकों तारोगी ॥ हो० ॥ देक॥ आदि अन्त अविरुद्ध वचनतें, संजय বসল निरवारोगी ॥ हो० ॥ १ ॥ ज्यों प्रतिपाठत गाय वत्सकौ, त्यौ ही सुज्षकों पायेगी । सनसुख कारु बाघ जब आबे, तब तत्काङ उवारोगी ॥ हो० ॥ २ ॥ वुघजन दास वीनवै मता, या विनती उर धारोगी । उच्चि रद्यौ दं मोह जालूमे, ताकों तुम सुरझारोगी ॥ हो० ॥ ६ 0७ (११) राग-विखावर कनी 1 सनके हरप अपार-चितके हरष अपार, वानी शुनि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now