गीतामंथन | Geeta Manthan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Geeta Manthan  by किशोरलाल मशरूवाला - Kishoralal Masharoovala

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

किशोरलाल मशरूवाला - Kishoralal Masharoovala के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
डपोद्घात ५नियमों एवं सिद्धान्तो को वुदेमता श्र व्याप्ता की नित्य नई प्रतीति £ হীতী আলী ই 1] | इसलिए, वह न समझना चाहिए कि गीता कोई गोलमोल श्रथवा शुप्त भाषा में लिखा अन्य ह ओर इसलिए वह गृहं} वात यह है कि हमारा जीवन निरन्तर विक्रासशील हैं. आर उसका प्रथकरण आसानी सेসিनहीं होता, यही उसकी यूढुता का कारण है | दूसरे शब्दों में कहा जायतो, गीता गट नदी रकि जीवन गृहे शौर चूंकि गीता जीवन से सम्बन्ध रखने वात्ता সল্প ই হুল कारण वह मूद-सा बन गवा है | ४२गीता का मन्थन बार-बार करना क्‍यों आवश्यक है, वह इस सम्बन्ध में इतना कह देने के वाद अब हम गीता की रचना पर विचार करे | गीता महाभारत का एक भाग हं । मदहामारत को समान्यतः इतिहास । कद्ा जाता है | किन्तु उसे साधारण अर्थ में इतिद्वास अथवा तवारीख या दैस्ट्रीकयना भूल दे | वदद इतिहास नहीं वल्कि ऐतिहासिक काव्य है। पाणडव और कौरव के जीवन की कई खास-खास घटनाओं का वर्णन करने के लिए कवि ने एक महाकाव्य के रूप में उसकी रचना की है | कवि का उद्देश यह नहीं कि वह बटना-क्रम का ज्यों-का-त््यों वर्णन करदे | उसका मुख्य उद्देश्य तो है एक महाकाव्य की रचना करना, ओर उत महाकाव्य के लिए उसकी मुख्य योजना है कुरुवंश क युद्ध को उसका अपना विपय बनाना | छाव्य होने के कारण इसकी कितनी ही घटनायें, कितने द्वी पात्र ओर | क्वितने ही विवरण आदि ऋल्पित हो सकते हूँ | इसमें अगर कहीं दो व्यक्तियों के वीच कोई संवाद आया हतो हमं यह नहीं समश लेना चाहिए कि वह संवाद किसी रिपोटर का लिया हुआ अथवा करंसीने ज्यों2




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :