कानून भारतीय रेलवे | Kanun Bhartiya Railway

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : कानून भारतीय रेलवे - Kanun Bhartiya Railway

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( १५ ) ( ६६) टिकट से एक ओर फा दिक জী [চনত হী নী লী दिकट सम्मिलित | ९ মং এ (१७) “मत” से अश्तिप्राय दत्तीख কী বক জন হী ই भाद ৭১ ব্রা নন হজ্জ জা অহী ঈল रोय खञं दोसा! जोर ~ (~ + 9 ২৬ (६८ ) “कलक्टर का आाथेप्राय उख सुख्यआधकफारा रू हे जिसकी सपदेगों मे जिले को सालशुज्ारों का प्रदन्ध छो, और उससे एसा मन्तुप्प सम्मिलितदे जो स्थानीय गवनगेन्‍्द छाश इसपफ्ट भ ৯৬ ৯১ (4 अनुसार कलल्टरके कतेव्याकते खस्पन्न कनेर निामेत्तावेशेदत+ः ভু দিনা বন্যা ছি दसरा परि यो का निरीक्षण घ्‌ ৬ বি সি [ए ४-- १) सफ्ोन्खिक गवर्णमेध्ड जनरर फो अधिकार भ নে €~ पवरपतटसे फी िदयुक्ति। | ऐया कि दह छोगो फो उनके नास से या सार उम फ एत्तव््र । उनषेप से रे प्दपेपटर नियत फर । न ২১ द्द পিএ (क भे ক ৬২৬ (२) रुत्ब-श-ग्एपंधटर पा पाचव्य देख ভাজ 21৭1: (षः) यद्र लश्च पास्ते फे वियार से रेलघियां का निरीक्षण फरना दि आया पए सामान्यतः यादियाँ फे लाने या ले আল देः लिये ददः है अघदा दद्दी, और उल पर इस पदट दी प्ादालुखार खष्तोन्दिरू नयन जनरल छोरिपो्ट करतना। (দ্ধ) छिसी रेलवे था दिसी पएह्चिये चाढीदीज छा जो उसमे प्रयक्त हा, एडा छामयिदा या অন तिरीश्षण करना जेसी क्ति তছটাকিত্রত पतर ऊतर्छ আহা ই। (य) তা रेलवे एस्दन्धी दुघयमा के कारण इस एक्ट के यनु- खार खन्वेदण छरणा 1 গস !> 5१४ 5 পপ 41 ০ ৪ < 8 2817 1? क ( घ ) यन्य पेच्चे र्तष्या द्धा पालन करना জী হত एक्ट या रेलदे समय शचालेत शिसी मनन्‍य एक्ट दासा उस पर ८1 | (~ এ |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now