एकादश स्कन्ध | Ekadash Skandh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : एकादश स्कन्ध  - Ekadash Skandh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१.५९ तऋ्र.ष्रयोका श्चाप मत्स्यो गृहीतो मस्स्यध्नैजलिनान्यैः सहार्णवे । तस्योदरगतं रोहं' स शल्ये छन्धकोऽकरोत्‌ ॥ २३ ॥ मछली मारनेवाले मछुओंने समुद्रमें दूसरी मछलियोंके साथ उस मछलीको भी पकड़ लिया। उसके पेटमें जो लोहेका टुकड़ा था, उसको जरा नामक व्याघने अपने बाणके नोकमें ल्गा लिया ॥ २३॥ भगवाजञ्ज्ञातसर्वाथ ईश्वरोऽपि तदन्यथा | कतुं नेच्छद. विप्रशापं कालरप्यन्वमोदत ॥ २४ ॥ भगवाच्‌ सब कू जानते थे। वे इस शापको उलट भी सकते थे। फिर भी उन्होंने ऐसा करना उचित न समझा । काल- रूपधारी प्रभूने ब्राह्मणोके शापका अनुमोदन ही किया ॥ २४॥ इति श्रीमद्धायवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायामेक्ा दश्चस्कन्पे म्रथमो.ऽभ्यायः ॥ ¢ ॥ १. ढोदं शठेषु टु° ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now