संकल्प - शक्ति प्रथम परिच्छेद | Sankalp - Shakti Pratham Paricched

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sankalp - Shakti Pratham Paricched  by अज्ञात - Unknown

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अज्ञात - Unknown के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
अदीन विचार १६ सदा उफीके समीप रहते ह, कितने अभिमानी दाना चद । पक श्रग्रेज कवि का कटना है किः-[)0081) 71071060010) 1115 710 00171500170 08179 36৮ 1)0%0৮ 09৮ 070 01010 पात 0081)0).. - श्रधात्‌:--चादे लिन्ता ओर आपत्ति फितनी भी आये वरन्‌ मनुप्य को दतोत्सादित कभी भी नर होना चाहिए |'हीन और मलीन विचारों को अपने मास्तिप्क-में स्थान न दीजिये सदा पेसे ओजस्प्री पिचार अपने मास्तप्फ में रखिये कि जा उत्साह का चायुमएइल अपने चारों ओर उत्पन्न कर सके | अपने मित्र पेते टी चुनिये फ़ जे उक्त भकार फे विचार धारण कस्ते टां । यस, यदी लेकरुप-शक्ति का उन्नति का प्रथम सपान है ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :