युगप्रधान श्रीजिनदत्त सूरी | Yugpradhan Shrijindattsuri

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : युगप्रधान श्रीजिनदत्त सूरी - Yugpradhan Shrijindattsuri

एक विचार :

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

अगरचन्द्र नाहटा - Agarchandra Nahta

No Information available about अगरचन्द्र नाहटा - Agarchandra Nahta

Add Infomation AboutAgarchandra Nahta

भँवरलाल नाहटा - Bhanvarlal Nahta

No Information available about भँवरलाल नाहटा - Bhanvarlal Nahta

Add Infomation AboutBhanvarlal Nahta

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
দাঙ্গমল ५ [3 २ भी निनदनरि के म भराषशो भाङृद्य उल्हेख पू ६8३ ६७ में किया गया है उनके भतिरिक्त भाषड़ी ह्पासे सुलीषमे ছাল যাকে লাক का उस्केख से १२८९ में জিকির शौक रैमानेकाप सम्रह द्री पुश्िकरा ग॑ भाता है ।ये पस्कर गद्य के पाछताथ के पुत्र ये | सरिधी के मक्त शोगे पर প্নক্গা কাহিজয सह हो गया था भौर बर्मसाग में विशेष भप्रनग्दो कर मस्कीर में मिए॒बध राजा के मय में चन्द्रमम स्वामी का उच्तंंग डिनासप कलाप जिद प्रतिदा इसके पथुंघर भणिष्वारी भी जिनजद्रमरिणी ने की पी। एस गोज प्राष$ श रोगियों के छिये औपबारंय आदि खोसका एरोपकार है बहुत से काय्प किए थे। शस डस्ऐेल् बाली पुष्पितता मुनि डिनविशयशी रूप्यादित हन ৮০১০ # नप्रद ष्प्‌ १ मष्ीहै । अनमम्‌ ५ ईइ ष्ट भ~ ध्रागिठ घनेन (1 सकी है। टिसी रझन को एशषी प्री १४ जिन लत ग च र हन পপি লিট টা प्ये भजित करमे की कृपा करे | जामार प्रदर्शन-- कः धद्यत- यर्थ एलन হু লালে 8 श्नि जिन पिदर कौ পাশা দাদ হই ই ওল তত খা हार्दिक भाष्यप माल बिना इस # रमे ठे शरणद কু বেলী হচেছ হে श्न রি (निर प्यथ জং সে लाते ছিলি অন ক্যাচ্য 31.21




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now