पंचवटी | Panchvati

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : पंचवटी - Panchvati

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सेठिया - sethiya

Add Infomation Aboutsethiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पंचवरी ] (१७) ০০ कोः ५ সপ সি मि श पे जोन পি, আন को कोन कि कि কস क সীল জি भक क कन्व ऋ = च जल्दी से पूजा की सामी तेयार कराश्रो 1- सुनो, और फौन-फौन साथ है ९ दासी ( दाथ जोष्कर ) स्वामी केले ही राके हे 1 सीता अकेले ही ञआञाते हे ? देवर लक्ष्मण साथ नहीं हैँ ? गुर वशिष्ठ कटौ रद गये ९ आयं समन्त भी नहा हे ९- शायद. सव शो उधर ही छोडकर आयपुत्र सीधे मेरे पास आते होगे । कहेगे जल्दी तेयार दो जाओ । तुम्दे सजने से देर लगती है 1--शायद मिथिला से पिताजी नेवल हैं, उनके विषय मे उल्ल कटे ९ [হাল ढा प्रदेश दसी स्वामी সা गये । [ क्दस्र जल्दी जल्दी जाती दे । सीता (হাল কী ইহ) আই অহ स्त्या, उभो तो आयपुत्र को में बिलकुल सादे वेश में देख रही हूं । एस दिन के लिए पनाई गई आपकी पोशाक तो मेने पदले ही भिजया दी थी । आयेपुत्र ने उसे रब तक नहीं पटना ९ रास प्यारी !




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now