भारत पर अमेरिकी फंदा | Bharat Par Americi Ka Fanda

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bharat Par Americi Ka Fanda by एल० नटराजन -L. Natrajanओमप्रकाश संगल -Omprakash Sangal
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
11 MB
कुल पृष्ठ :
274
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

एल० नटराजन -L. Natrajan

एल० नटराजन -L. Natrajan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

ओमप्रकाश संगल -Omprakash Sangal

ओमप्रकाश संगल -Omprakash Sangal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पहला अध्याय: दूसरे महायुद्ध के पहले भारत-अमरीका सम्बंध' भारत और अमरीका के वीच व्यापारअमरीका ने सबसे पहले १७८० में भारत से सीधे व्यापार करना शुरू किया । उस साल ग्रण्ड ठर्के नामक एक अमरीकी जहाज कलूकते के - सफ़र को भेजा गया। अमरीका अभी हाल में ही आज़ाद हुआ था । उसके . व्यापारियों ने पूर्व में श्रेठिश और फ्रांसीसी कम्पनियों के झयड़ों से फ़ायदा : उठाया और दोनों से उविधाएँ ऐंठी । अमरीका की फेडरल ( संघ ) सरकार ने इस व्यापार को बढ़ाने के लिये क्दम उठाने शुरू किये । १७५१ फे चुंगी के क़ानून (टैरिफ्र ऐक्ट ) के द्वारा इस प्रकार के कर लगाये गये जिनसे अमरीकी जहाजों में आनिवाले आयात को बढ़ावा मिलता था। भारत से व्यापार करने .के लिये उद्यरतापूर्वक-कर्म दिये गये । १७९४ म अमरीका की चिरेन से एक . संधि हुई जिसे जे-संधि के नाम से पुकारा जाता है। उसके मुताबिक अमरीका , को भारत में व्यापार की विशेष सुविधाएँ मिल गयीं। १८०० में अकेले कलकत्ता से बारह जहाज माल भर कर वोस्टन के लिये रवाना हुए । इसी साल भारत से अमरीका जानेवाले सामान की क़ीमत तीस लाख डालर की गयी) ईस्ट ईण्डिया कम्पनी के अफ़सरों ने बहुत सी दौलत गेर-क्ानूनी ढंग से जमा कर ली थी और उसे वे सीधे इंगलेण्ड न ले जा सकते थे । अमरीकियों ने इस दौलत को ढो-छो कर काफ़ी पेसा कमाया। जे-संधि के मुताबिक अमरीकावाले केवल भारत और अमरीका के बीच व्यापार कर सकते थे । परन्तु नेपोलियन के युद्धों के काल में अमरीकी व्यापारियों ने इस संधि को ताक : पर उठाकर रख दिया और वे भारत का सामान योरप पहुँचाने लगे। इससे उनका व्यापार खूब बढ़ा । भारतीय कपड़े और मसाले के आयात ने अमरीका को,^“ अनेक प्रकार के कारखाने खोलने में मदद की, जेंसे रेशम कातमेके कारखाने, मोरक्को चमड़ा तैयार करने के कारणाने और “उन




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :