जिन सूत्र | Jine Sutra(1976) Ac 5181

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जिन सूत्र - Jine Sutra(1976) Ac 5181

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

ओशो (मूल नाम रजनीश) (जन्मतः चंद्र मोहन जैन, ११ दिसम्बर १९३१ - १९ जनवरी १९९०), जिन्हें क्रमशः भगवान श्री रजनीश, ओशो रजनीश, या केवल रजनीश के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय विचारक, धर्मगुरु और रजनीश आंदोलन के प्रणेता-नेता थे। अपने संपूर्ण…

Read More About Acharya Shri Rajneesh (OSHO)

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१० जिन-सुतर आखिरी आदमी है। अदम संसार की तरफ यात्रा है - धारा । जीसस संसार से बिपरीत यात्रा है - राधा । यहूदियों की कथाएं थोड़ी कठोर हैं । पूरब में लोग ज्यादा कोमल भाषा बोलते हैं । यहूदी कहते हैं, परमात्मा ने बहिष्कृत किया अदम को । हम ऐसा नहीं कहते । हम कहते हैं, स एकाकी न रेसे । यह अकेला था। एकोछहं बहुस्याम । उसने कहा, बहुत को रच । बहिष्कृत नही हज, अवतरित हुआ । भया, मर्जी से जाया । और इसे भी समझ लेना जरूरी है । तुम जहां हो, अपनी मर्जी से हो ) संसार में हो तो अपनी मर्जी से हो । तुम्हारे भीतर के परमात्मा ने यही चुना । कुछ परेशान होने की बात नही । बेमर्जी से तुम नहीं हो। अपने ही कारण हो । अपनी ही आकांक्षा से हो । और यह बड़े सौभाग्य की बात है कि बेमर्जी से नहीं हो । क्योकि जिस दिन चाहो, उसी दिन घर का द्वार खुला है, लौट आ सकते हो । जब तक चाहो, जा सकते हो दूर । जिस दित निर्णय करोगे, उसी दिन लौटता शुरू हो जाएगा । ब्राह्मण-संस्कृति परमात्मा के फैलाव की कथा ই । श्रमण-संस्कृति परमात्मा के घर लौटने की कथा है। और निश्चित ही, जो अकेले में थक गया था, वह भीड में भी थक ही जाएगा । तुमने अपने भीतर भी देखा ! यही होता है । बाजार में थक जाते हो, मदिर की आकांक्षा षदा होती है । भीड़ में ऊब जाते हो, बस्ती से ऊब जाते हो, हिमा- लय जाने की आकाक्षा पैदा होती है । हिमालथ पर जो बैठे हैं, एकात में, उनके मन में बाजार आकर्षेण निमित करता है] मैं कुछ मित्रो को ले कर कश्मीर की यात्रा पर था। कश्मीर के पहाड़ों में, झरनों में, वे बड़ा आनंद अनुभव कर रहे थे । डल झील पर उनके साथमे टरा था । हमारा जो माझी था, जब हम लौटने लगे तो वह कहने लगा, “' ऐसा आशी- बाँद दें कि एक दफा बबई देखनी है | ' * तू बबई देख के क्‍या करेगा ? / उसने कहा, ' यहां मन नहीं लगता । और बंबई बिना देखें मर गए तो एक आस रह जाएगी 1 जो मेरे साथ आए थे, वे बंबई के मित्र थे | वे चौंके । वे आए थे कश्मीर । वे आए थे हिमालय की शरण में । और जो हिमालय की शरण में पैदा हुआ था, वह बंबई आना चाह रहा था । तुम अगर अपने मन को भी पहचानोगे तो यही पाओगे । परमात्मा की कथा वस्तुतः तुम्हारी ही कथा है। कोई परमात्मा और तो नहीं । तुम कोई और तो नहीं । परमात्मा की कथा शुद्ध चेतना के स्वभाव की कथा है | ठीक ही कहते हैं वेद, ' ऊब गया, अकेला था । कहा, बहुत को रचू । उसने बहुत रचे । *




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now