प्रायश्चित भाग - 2 | Prayashchit Bhag - 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Prayashchit Bhag - 2 by श्री सोपान - Shri Sopan

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री सोपान - Shri Sopan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
1 नया परिचय.सभनिक विचार करता हच्ा श्रीकान्त, रामदेव के पास श्च॑क्र खडा दोगया । रामदेव को सी जानकी जल्दी थी, फिर भी वह श्रीकान्त की तरफ देखता तथा उसी तरह हँसता हुआ खड़ा रहा । थोड़ी देर मे सुप्ाफिर कम होगये और प्लेटफॉर्म खाली हुआ । कुछ भी बोले बिना, एक-दूसरे के सामने देखकर दोनों स्टेशन के वाहर निकले ! बाहर, मैदान में आते ही श्रीकान्त ने पूछा--“झ्राप कहाँ जायेंगे १”“एक मित्र से मिलने के लिये यहाँ आया हूँ, रात को वापस लोट जाऊँगा” 1“कल ही आपको दीक्षा मिलेगी 1” “हैँ, क्या तुम्हें कुछ आश्चर्य होता है?”“आश्चये क्यों न होगा ! आखिर आपको हिन्दू-धर्म क्‍यों छोड़ना पड रदा है १“क्यों छोड़ना पड़ रहा है ! मेरी इतनी बात सुनकर मी तुम न समझ पाये? में, मनुष्य हूँ, इसलिये? मुझे जीवित रहना है आर सुखमय-जीवन व्यतीत करना है, इसलिये 1% १




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :