पशु - चिकित्सा | Pashu Chikitsa

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Pashu Chikitsa by राघो प्रसाद वर्मा - Ragho Prasad Verma

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राघो प्रसाद वर्मा - Ragho Prasad Verma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पशु-चिकित्सा छ १ चाखड़ी का चूणु पोने चार तोला । २ पलास के बीज बारह आने भर | ३ अफीम छं आने भर | ४ चिरायता का चूस सात तोला 1 इस सब औषधियों को एक छटांक शराब में १ सेर भात का मॉड़ मिलाकर पु को देना चाहिए । यह घारक तथा अस्ल- नाक होता है । चेचक दिखाई देने के पहले सेमल का बीज गुड़ के साथ तीन दिन तक दिया जाता है । परन्तु चचक की मौजूदगी मे यह ब्यौषधि न देनी चाहिए | पहले दिन--२५ बीज प्रथम बार १८ बीज द्वितीय बार और १० बीज तृतीय बार ३-४ घन्टे के अन्दर पर देना चाहिये । दूसरे दिन--प्रथम बार १५ बीज द्वितीय बार १० बीज १९ घन्टे के अन्तर पर देना चाहिये । तीसरे दिन--एक बार १० बीज चेचक पकने के पहले खिलाना चाहिए 1 जब पशु त्को जीभ फूली जान पड़े तो उसके मुख को कारवोलिक एसिड और गर्म जल द्वारा साफ करना चाहिए । नीम के ्योटे हुए पत्ते द्वारा भी सुख नाक साफ करते रहना फायदा पहुँचाता है | १ चिरचिरी की जड़ ४ तोला 1




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :