ऐतिहासिक जैन काव्य संग्रह | Etihasik Jain Kavya Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : ऐतिहासिक जैन काव्य संग्रह - Etihasik Jain Kavya Sangrah

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शंकरदान जी नाहटा -Shankardan Ji Nahta

Add Infomation AboutShankardan Ji Nahta

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
एातहासक जन-+काव्य' सग्रह -की- प्रस्तावनां जेन-धमं भारतवर्षका एक प्राचीनतम धमं ह । इस धमक अनु- यायियोने देशके ज्ञान-विज्ञान, समाज, कला-कोरा आदि वैरिष्य्य- के विकासमें बडा भाग छिया ह ! मनुष्यमात्र) नहीं-नहीं प्राणीमात्र में परमात्मत्वकी योग्यता रखनेवाला जीव विद्यमान है ओर प्रत्येक प्राणी, गिरते-उठते उसी परमात्मत्वकी ओर अग्रसर हो : रहा है | इस उदार सिद्धान्तपर इस घमका. विश्वप्रेम ओर विश्व- बन्धुत्व स्थिर है। भिन्न-भिन्न धर्मों के विरोधी मतों ओर सिद्धांवों- के बीच यह धर्म अपने स्याद्वाद नयके द्वारा. सामव्जस्य उपस्थित कर देता है । यह भोतिक ओर आध्यात्मिक उन्‍नतिमें सब जीवोंके समान अधिकारका पक्षपाती- है तथा सांसारिक छामोंके लिये कलह ओर विद्धेषको उसने पारखोकिकं सुखकी श्रेष्ठता द्वारा मिटानेका प्रयत्न किया है । न-धमकी यह विशेषता केवल सिद्धान्तोंमें ही सीमित नहीं रही । जन आचार्योंने उच्च-नीच, जाति-पांतका भेद न करके अपना उदार उपदेश सब मनुष्योंकों सुनाया और अहिंसा परमो




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now