राज्य प्रबंध शिक्षा | Rajaya Prabandh Shiksha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : राज्य प्रबंध शिक्षा - Rajaya Prabandh Shiksha

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

टी० माधवराव - T. Madhavrao

No Information available about टी० माधवराव - T. Madhavrao

Add Infomation AboutT. Madhavrao

रामचंद्र शुक्ल - Ramchandra Shukla

No Information available about रामचंद्र शुक्ल - Ramchandra Shukla

Add Infomation AboutRamchandra Shukla

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
{९1 शनियों के सेषक्षो बा दासों के दाच्च লী यहो ইলা ভান । . জত্বহাশ-ইঘ শীক্ষতী के छाटे छोटे अपराधों के बहुल ज्यादह ध्यान में मन लाना चाहिये आर न उनके लिए उन्हें कडी कड़ी सज़ाय देनो चाहिए। सब नोकरों से कुछ न कुछ अपराध है। हो जाया करते हैँ । ध्यान इस बात का रखना चाहिए कि वे शेसे छेोठे अपराधों से आगे न बढ़ने पांवें । उनका दृण्ड-यदि कोई महल का सेक रेखा अचरा करे लिपसे उसके दण्ड देना आवश्यक हा ता भौ उचित यही है कि उसके दण्ड के लिए स्वयं महाराज জা कारधषाई न करें। दंड या तो महल का कोदे बड़ा प्रसर दे या अदालत दे, जेघा मामला डे । यह इस लिय है जिसमें महाराज से व्यथ किसी के ट्ष न हने परे) भूल श्वत्य-महल में जहां तक हे पृश्लनी नोकरों के रखना अच्छा हो हे क्योंकि उन्हें राजपरिवार के साथ अधिक खेह रहता हे । यदि कोई बढ़ा नोक्र झर जाय; अधवा रोग वा बुढ़ापे आदि के कारण अशक्त हो जाय तो के लड़के, भ है था ओर कछिछी संबंधी के জ্বীন জ্বাল ই देना अच्छ' हे | पर राज्य के कमेचारो नियक्ता करने में इस पेलुक सिद्धान्त पर चलना सवेथा अनुचित हे क्योकि राज्य के कामे में विशेष गणों को आवश्यकता रहतो हे । ভা জা कोई राज्य सम्बन्धी क्वाय्ये- शेसे भो हेते हं मे इनके य्य गृ अ লন करने बाले दे वंसते में




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now