भारतीय कला को बिहार की देन | Bharatiy Kala Ko Bihar Ki Den

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : भारतीय कला को बिहार की देन - Bharatiy Kala Ko Bihar Ki Den

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विन्ध्येश्वरी प्रसाद सिंह - Vindheshvaree Prasad Singh

Add Infomation AboutVindheshvaree Prasad Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
षठ १०४ १०५ १०८ ११०५ १११ ११४ ११६ १२३ ११५ १२५ १२६. १२५. १२६ १४० चित्र-सं° चित्र-सं ० सि०-छं० चित्र-सं ० चित्र-सं ० चित्र-सं ० चित्र-छ ० चित्र-सं ० चित्र-से ० चित्र-सं ० चित्रन्स ० चित्र-से ० चित्रल्‍्से ५ १२२ झा, भकुदी - न | पक्ति अशुद्ध शुद्ध प्पि०-सं० ६४ चि०न्सें० ६४ श्र ২৭ लेख 05 ३५. चि °-सं० ६२ चि०-सं० ६७ १८ 10788 10198 ३७ चित्र-सं० ६७ जिन्रन्तं० ६७ अर २७. मेघवर्म मेघवर्ण चित्र-्तं० 3) चिन्-सं० ५७१ श १० 101 10011 ३ टकसाल मे ही ट्कसाल में मी ६ ओर उसे श्रोर २२ देवी-देवताश्रों को देवी-देवताओं की २१ उत्कीण हैं उत्कीणं ई श्रौर इसी प्रकार को मुकुट घारी बुद्ध की एक प्रतिमा पटना-संग्रहालय में है। २४ अमयनमुद्रा में खड़े अमबन्मुद्रा में खड़े ओर भूमि-स्पश मुद्रा में নিত बुद्ध की सुन्दर प्रतिमाः ३० पटना-संग्रहलय भारतीय संग्रहालय चि०-सं० ११६ चि०-सं० ११५ ११३श्न चित्रन्सं० १०३ ११५ चित्र-सें० १०५ पृ० १३२ दित चंल्या १२२ श्रा, चंडी, गणेश श्रौर कात्ति केय (१) १३२ चित्र -सं० १२६ १३३ चिन्र-सं० १४१७ १३३ वे चिन्न-सं० १२८ १३३ चित्र-सं० १२७ श्र १३४ चित्र-सं० १२६ १३६ चिन्नसं० १३० १३६ चित्र-सं० १३१ १३५ জিন্স १३२ ৭২৬ चित्र-सं० १३३ १३८ चिननषंर १३४




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now