सम्पूर्ण गांधी वाड्मय भाग 22 | Sampurna Gandhi Vaangmay Bhag 22

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सम्पूर्ण गांधी वाड्मय भाग 22 - Sampurna Gandhi Vaangmay Bhag 22

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोहनदास करमचंद गांधी - Mohandas Karamchand Gandhi ( Mahatma Gandhi )

Add Infomation AboutMohandas Karamchand Gandhi ( Mahatma Gandhi )

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
ভে © ७२. पररह , भाषण: विषय-समितिकी बठकमें (२७-१२-१९२१) . भाषण : विषय-समितिकी बैठकममें (२८-१२-१९२१) , भाषण : अहमदाबादके कांग्रेस अधिवेशनमें - १ (२८-१२-१९२१) , भाषण : अहमदावादके कांमेस अधिवेशनमं - २ (२८-१२-१९२१) , भाषण : हसरत मोहानीके प्रस्तावपर ~ १ (२८-१२-१९२१) , भाषण : हसरत्र मोहानीके प्रस्तावपर -२ (२८-१२-१९२१) . आदं कंदी (२९-१२-१९२१) . भरंट : वंभारके प्रतिनिधियोसे (२९-१२-१९२१) . पत्र : देवदास गांघीको (३०-१२-१९२१) , सेट : संयुक्त प्रान्तके कांग्रेस नेताओंसे (३०-१२-१९२१) . सन्देश : उत्कल्को (३०-१२-१९२१) . भाषण : गुजरात विद्यापीठ, अहमदाबादं (३१-१२-१९२१) . तार: मौलाना अब्दुल बारीको (१-१-१९२२) « निर्देश : कृष्णासकों (२-१-१९२२) « पत्र : देवदास गाधीको (४-१-१९२२) . भेंट: 'स्वराज्य के संवाददातासे (५-१-१९२२ के पूर्व) , टिप्पणियाँ : जेल-जीवनकी झाँकी; “इंडिपेंडेंट का नया रूप; एक बैरिस्टरको वोटिस (५-१-१९२२) , कांग्रेसका अधिवेशन और उसके बाद (५-१-१९२२) , कानूनी लूट (५-१-१९२२) स्वतन्वरताकी पुकार (५-१-१९२२) . जिस समस्यके तत्काल हर्की जरूरत है (५-१-१९२२) , तार : देवदास गांधीको (६-१-१९२२) . खूव किया, ऊेकिन क्या यह जारी হইয়া? (८-१-१९२२) ६८. * टिप्पणियाँ : ईंसाइयोमें जागृति; देशी राज्योंमें युवराज; कुछ प्रश्न; खिलाफत परिषद्‌ (८-१-१९२२) हवामं न उड्‌ जाये; खादीकी प्रतिज्ञा; वीर माता; दूसरी मिसा; मालवीयजीका पुत्र; जेलमें भक्त जोग; गुजरातके किए स्वणं अवसर (८-१-१९२२) + तारः एस्थर मेननको (११-१-१९२२) ७१. टिप्पणियाँ : बेहद माशावादी; पहले ही स्वतन्त्र; कांग्रेसियो सावधान [ ; ' ठाइम्सका साक्ष्य ; भगवानके हाथोमें; मणिलाल डॉक्टर; मालवीय परिवार; लालाजीका पत्र; सुधार; एक रोचक ब्यौरा; प्रतिनिधियोंकी संख्या; उपस्थित प्रतिनिधियोंका विवरण; प्रेक्षकषगण; अखिल भारतीय ईसाई सम्मेलन; कुछ और उल्लेखनीय गिरफ्तारियाँ; गुरुद्वारा आन्दोलन; क्षमा-याचता; वकीछोकी कठिनाई, कुर्कीका वारंट (१२-१-१९२२) अब ग़ोलियोकी वारी है (१२-१-१९२२) १०२ १०४ १०६ ` १११ ११३ ११४ ११५ ११७ १२५ १२६ १२८ १२८ १२९ १२९ १३० १३१ १३२ १३९ १४६ १४८ १५१ १५३ १५३ १५६ १५८ १६३ १६४ १८५




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now