भार्याहित | Bharyahit

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भार्याहित - Bharyahit

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रघुनागदास -raghunaghdas

Add Infomation Aboutraghunaghdas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
भाय्यीहित। ` .. ९९ . दीह |: -৭ ৮৯: उपनेहे दुख भोग को चस परी हेवानि। .. तरुणाई बिछ॒पत कटी जरा क्केशकी खानि॥ `: जो्ांन रहीतो मानों संसारनें आनेकामुख्य सख ओर प्रयोजन उसका अधरा रहा क्योंकि दस कहने ओर समझने का सख घ्री को अपारं ` होंताह कियह संतान मरोह ॥ कम ९२---निन मुख्य प्रथोजनां सं स्री ससार मे आ ह्‌ उन्का स्मरण उसको अवश्य रखना . चाहिये अथीत्‌ नीरोग बालक का उत्पन्न करना : अपनेपति संप्तान तथा मनष्य जातिके साथउचित .. पमका निबाहना ओर नीरोगता की महिमाको जान लेना एक सज्जन ने कहा है कि पहिला धन नीरोगता ह संसार में आनेका जो कृत्य है - उसकी मतभलो॥ 5২০৭ . . १४--जअहूको उचित है कि नित चलाकिरी कियाकर पर इस्के कारण अपने घरक कामघंधे में हानि न पड़ने दे यह सीख सखीमान्र फो परम ` .. हितह परन्त इसका अर्थयह नहींहे कि जोखी म- ` य्यादाकं कारण बाहर निकसती पेठती नहींहें




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now