श्रीसत्यबोध | Shrisatyabodh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : श्रीसत्यबोध - Shrisatyabodh

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गुलाबचंद पारख -gulabchand parakh

Add Infomation Aboutgulabchand parakh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
विषय सह्य बचन भान्रपी फः अदात । ४ शौय वरत) ) 2 3 ममत्व रात्रि मोन ब्रत वाशी पद दुक्त 1 + मम्‌ १} 9) «(रसा 1 1 (५1 ( फ्द्‌ उपदेश १) 1) उपदेश ৪? 21 ছা म्‌ | व ? তই] 71. 9 मरक व धरणीम्‌ १, बीस ক ভব बीस बिडरमानती জানত शंतिमाप मिन + उदापिमरिषष्मै शमगणी অনা 1) মাহদী বারা গলদ)? ऋष्क उपर १) जरसा उपदेशगौ রঃ भामपौ [ নালা डे करमते पामा जारानी जलत कर्मकौ भदारुत ,, ऋम पश्चौर्सीकी का মুদ্ধ ऊपर + कका बसती उपर ? कैदो ऊपर मात्र रृष्टातनी ,, गणी मराठी मागां मगर उत्काव १ (३) पृ्हाङ „~ विषय एक १६२ सौम सवामीसी सम्हाय , १७६ १६२ म्पारा मणौ १ १७४ १३१५ ॐ #ऋक 7? १७५ ११६ ˆ, „दुतिय + ~ १७६ ~ १३९ फऋ 9 है १७६ १११ ? १ पचम्‌ ॥ न १७७ १२३९ भ्रौदस्वैकारिकः सूत्र दश | এ १३६४ अधष्पयन प्रत्पेक ठद्देशा पीठिका १६५ सयुक्त पन्नर सम्श्ाय { १७८ ~ १६५ गुरु पुण सम्शाय {९७ ~ १६६ भार माबनागर्मित उपदेश एछश्रौ्शी .. १९८ ~ 1३६ छानीय माबमा सब्जाय „2२५१ ~ १६७ नरन + # १७२ ~ १६७ ससार # १ ~ ४१६ ११८ एक्स ) + २०४ १६९ जन्या ) 9 १०५ १४० अहृभि मानना सम्हाय ~ २.०५ „१४१ वास्ब + +» १०६ १४६ सेब + + ~~२०७ १४६ निर्गा + १ २८ १४७ शोक स्वमाग तवा शोक १४९ झंडाण मात्रणा सस्घाप | २०९ ~ १५१ नोप ्ीज দানলা অল্মান ~ २११ (५ 4 १५७ तेरे काठियानी 1 २११ {५९ प्रषानुसारसे एकसो बश्औौध् बोड £ছং भपमा करे गिपाक मादा सम्हाय ) २१५ १६५ उपरेंश सबैया, रम उप्‌ -- २२३६ » है३७ चउट नियम सम्हाप २२४ ~ १७० पयण पं साध्याय / २२५ ~ १७१ अध्यात्म पर्व इशाइरा स्वाप्पाप २२५ ৭ ছল য়ে अप्पात्म = २२८




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now