वृहत् ज्योतिष सार सटीक | Vrihat Jyotish Saar Sateek

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : वृहत् ज्योतिष सार सटीक  - Vrihat Jyotish Saar Sateek

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
+ ~= न ক বস :- 5 (৯২৩ (त 9 হত स ज ककन > त्तं =: 1 ॥ 27 ५ ২ ২০৯ = इ ৯১ ) ২২২ £ রি ২ | 4 সি ২ ২, ^ श क. र १ টে পা | 3 ₹ < £ ১২71 ঢা 2 ২৮757 56 1] (| এ धः नि भ ५ ५ „४ 1 ঢু লু } 1% মী | ২) 1 1 00) দি ( 1 {4 € 11 | 18 ষ্ঠ | । 1 রর ऋ क 05 4 ४) 1 সখ नि ज र म च रु সপ कन्त ०८72० का 4 क সি ९ क পপ করা १ ~~ >+ ५ 1 ৮) রঃ भ्र 1 এ ¶ 8 ६ 11 $ ५ 110 ॥ 44 (1 | 82222 ২ च ৯ ऋ हैं » „1 श + ए न = अहि লন শি 1. ২১ ६ শা 2 শা এ সহিত পলি টিন 4 [ ष এ পি 4 দে श ५१ ¦ 1 += ५4 न्म ष ५ + * च ॥ ल শে [ए ~ क. 9 4 1148, রতি তত ক = ६ ৩৭ (৯ ৩ ক 0 ৮24২ ? 1 ११ 1) 9 चै {1 ॥ + 8, সূ | गे (4 10 भष লা । 4 ॥ 1 ४4 9 ! ५ ग्ण ५ ब जय बुह्‌रज्यातरस्सार्‌ << ॥ “ गखाधिपं नमर्ङ्ृव्य ज्योतिस्सारसरसंयहम्‌ सयनसयणः खव लाकाना हदकाम्यया। १ ॥ गणेशजी को नमस्कार करके में सयनारायण लोकों की हितकामना के लियेज्योतिग्शाख के सारांश का संय अच्छी : रीति से करंता हूं ॥ १॥ खथ संवत्सरोत्पात्तिव्योख्यायते ॥ शाककाल:एथक्सस्था छादवशत्था रब हतस्त्वथ। भूनन्दाश्व्यत्धि ४२९१ युग्भक्की बाणशेलगजेन्दुमि: १८.५४५. ! १ लाब्थयार्वहतःषट्या ६ ० शषसस्‍्यगतव त्सरा। | बाहस्पत्येनसानन अभवाद्या+क्रमाद्मा ॥ २ ॥ - शाका दोजगह रखना प्रथम को बाइससे गुणा करना उसमें चारहज़ार दोसे इक्यानवे जोड़देना.तिससें एकहंज्ञार आठसे ` पचहत्तर का भाग जेना. जो अङ्क लब्ध मिले उसे दूसरे शाके में जोड़देना।फिर उस अंडः में साठ का भाग देना जो शेष बचे सो बहस्पातिं के मतसे प्रभवादिगत संवत्सर होते.हैं.ए २ 0




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now