उन्नति की ओर | Unnati Ki Or

Book Image : उन्नति की ओर - Unnati Ki Or

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सेवाराम चावला

Add Infomation About

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
आये-कमार क्या है १५ [३] भारत भू-अ्रमणार्थ अवतरित क्या सुरगण के बालक हो १ या नचिकेता ऋषि-कुमार हो ओऔपनिषद्‌ उद्धलक हो ९ नव सफूर्ति हो, मंजु मूर्ति हो प्रेम-पुत्न॒ प्रतिपालक हो ? चक्रव्यूह - संसार7समर के सौभद्रक सम्बालक ভী-? [४] अथवा ज्योतिमय ज्वाला हो पातक-पुश्ञ-प्रजारक हो ९ धर्म क्रान्ति की चिनगारी क्या अनघ ओघ-संहारक हो ९ वैदिक वायु-विश्व मे बनकर सुख सुरभी सच्वारक दो अथवा प्रभु-प्रेमास्लानन हो पावन पुण्य प्रसारक हो ९ [५४ ] अहो | अतुल अवतार ओज के निष्ठा के नट-नागर হী? आशा के आगार आप वा सत्साहस के सागर हो ९ निभेयता की निश्चल निधि हो वा उमड्र के आकर হী? जीवित ज्वालामुखी-जोश के वा प्रस्फूर्ति प्रभाकर हो? [६] क्या उत्साह अनल भट्टी के तुम जलते अद्वारे हो २ अथवा सृदुता-मन्दाकरिनि के तुम कमनीय कगारे हो १? अथवा संक्तोमित सागर की लहरों के बम्भारे হী? वा प्रचण्डतम वायु बवंडर के अखण्ड भण्डारे हो ९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now