जैन तत्त्व कलिका विकास | Jaintatv Kalika Vikas

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Jaintatv Kalika Vikas by आत्माराम जी महाराज - Aatnaram Ji Maharaj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about आत्माराम जी महाराज - Aatmaram Ji Maharaj

Add Infomation AboutAatmaram Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
এল [~ ০০ अत প্রিলি লিক প্লিস तस = সক | | = स्य स ५ अ प पः त ০০ তুল লজ जिस मदात्मा फे चित्र का दर्शाश करके पाउक जन पने हृद्य तथा नेत्री को पवित्र कर रहे है रना शम नाम है पश्र १००८ गयगवच्ददक दा स्योरपद-विभूषित | श्रीमट गशपतिरायज्ञी भद्दारान। आपका जन्म स्यालफोद जिला कै धरन्तगत पसर नाभक शेर म श्चीषिक्रमान्डु १६०६ माद्रपद हृष्णु तृतीया मंगलवार के द्विने विपसिषा मोक्षय (काश्यपणोन्रन्तयत) जाल शुरदाख मघ श्रीमद ष्टौ घरसंपत्नी श्रीमती गोया की कुति হত্যা আছেই छद्डचन्दर ¶ क्ादच द्‌ २ पाडामद ३ पशुमक चार झाता ये ओर | निदाइदपी प्ली देवो २ पौर सोती दको ६ पे छीन मगिनिया ध धापा शैशव काल बड़े ही धन्य व्यतीत दुधा धीरं युवावस्था प्राप्त ने ঘং গুলার সাল ঈ वि स्वन्‌ 1६२४ मं शापस्य विवाद सस्कार ह्या 1 आए सरापी की दुकान करने ल এগ ইসিতে পর ক स, জিত




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now