सम्पूर्ण गांधी वाड्मय भाग 70 | Sampurna Gandhi Vaangmay Bhag 70

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सम्पूर्ण गांधी वाड्मय भाग 70 - Sampurna Gandhi Vaangmay Bhag 70

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोहनदास करमचंद गांधी - Mohandas Karamchand Gandhi ( Mahatma Gandhi )

Add Infomation AboutMohandas Karamchand Gandhi ( Mahatma Gandhi )

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
आन्ार इस खण्डकी सामग्रीके लिए हम निम्नलिखित संस्थाओं, पत्र-पत्रिकाओं तथा पुस्तकोंके प्रकाशकोंके आभारी है: संस्थाएँ : काशी विद्यापीठ, वाराणसी; केरल सरकार, त्रिवेन््रम; गुजरात विद्यापी5 ग्रंथालय और नवजीवन न्यास, अहमदाबाद; म्यूनिसिपक्त संग्रहालय, इलाहाबाद; नेहरू स्मारक संग्रहालय तथा पुस्तकाकूय, राष्ट्रीय अभिलेखागार और राष्ट्रीय ग्राधी संग्रहालय तथा पुस्तकारूय, नई दिल्‍ली; विश्वभारती, शान्ति- निकेरन भौर सावरमती आश्रम संरक्षक तथा स्मारक न्यास एवं संग्रहालय, अहमदाबाद | व्यक्ति: श्रीमती अमृतकौर; श्री आनन्द तौ० हिंगोरानी, इलाहाबाद; श्री ए० के० सेन, कलकत्ता; श्री एम० आर० मसानी, श्री कान्तिदार गांधी, बम्बई; श्री गुलाम रसूल कुरैशी, अहमदाबाद; श्री घनश्यामदास बिड़छा, कलकत्ता; श्री जयरामदास दौलतराम, नई दिल्‍ली; श्री जी० एन० कानिटकर, पुणे; श्री जीवणजी डा० देसाई, श्री डाह्याभाई एम० पटेल, अहमदाबाद; श्रीमती ताराबहन प्रताप, बम्बई; श्री ब्यंवकलाल पोपटछाल; श्री नारणदास माघी, राजकोट; शी नारायण देसाई, वारडोली; श्री पुरुषोत्तम केऽ जेराजानी, वम्वर्ई; डीं० पी० एण पटाडिया, सुरेन्द्रनयर; सरदार पृथ्वीर्सिह, लाकर, पंजाव; शी पोपटलाल चुडगर, राजकोट; श्री प्यारेखाक, नई दिल्ली; श्रीमती प्रेमाबहन कंटक, सासवड; श्रीमती मनुवहुन मश्वाका, बभ्बरई; श्रीमती मीरावहुन, गाडेस, ऑस्ट्रिया; श्री मुन्ताछार गं० शाह, सेवाग्राम; श्री मुलुभाई नौतमछार; श्रीमती छीछावती आसर, बम्बई; श्री वल्लभराम वैध, अहमदाबाद; श्री वालजी मो० देसाई, पुणे; श्रीमती विजया- वहन एम० पंचोढी, सनोसरा; श्रीमती शारदाबहन ग्रो० चोखावाला, सूरत; श्रीमती सुशीकावहन गांधी, फीनिक्स; श्री हरिभाऊ उपाध्याय, नई दिल्‍ली और श्री हरिभाऊ जी० फाटक, पुणे। पुत्तकें: ' (द) इंडियन एनुअल रजिस्टर, १९३९१, जिल्द २; 'इंडियाज़ स्टूगल फॉर फ्रीडम'; गांधी - १९१५-१९४८: ए डिटेल्ट क्रॉनोडॉजी ; पचे पुत्रको बापूके आश्षीर्वाद '; 'पिल्यिमेज ऑफ फ्रीडम '; '((ए) बंच ऑफ ओल्ड च्व; “वापुना प्रो-२: सरदार वल्लभभाईने'; “बापुना पत्रो-५: तेरह




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now