हिंदी दुर्गा-पाठ | Hindi Durga - Path

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हिंदी दुर्गा-पाठ - Hindi Durga - Path

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
#$ पहला अध्याय ४8 ~ __ শশা ^ ननन भ तीरेण दएड मतिवाजे उसका, उनसे युद्ध हुआ चति घोर । थोड़े भी उन रिपुओं से चह, रण में हारा रुफ-शिर-मोर ॥ न ५ नच निज पुरम चाया वह्‌ লু) रहा खभ्मों का ही कान्त। ड्या प्रबल रिपुओं से तोभी, महाभाग वह फिर आक्रान्त ॥ ७ निजपुर मे रते भी, निर्बल, उस राञ्मके खल बलवान | दुष्टात्मा सचिवों ने लूटा, सैन्य शौर धन पूरणं निधान ॥ द तव ॒ग्रगया करने के मिषसे, वह श्प होकर मनमें दीन ! चढ़ घोड़े पर॒ गया अकेला, घन-जंगल में प्रशुता हीन ॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now