प्रेमाश्रम | Premashram

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रेमाश्रम - Premashram

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
= ~ , श्वाने ~स, कह दिया कि जवान मत खोरो । मनोहर अवतक छुपचाप खड़ा था । प्रभाशहु्की वातं शुन 'कर उसे आशा हुई थी कि यहां आना निष्फल नहीं हुआ । उनकी 'विनयशीलताने उसे चशोभत कर लिया था। ज्ञामशंकर्के कट ध्यवहारफे सामने प्रशार्शकरकी नम्नता उसे देवोचित प्रतीत होती थी |5सके हृदयमें उत्कण्ठा हदो रदी थी जि अपना सर्वस्व लाकर इनके सामने स्ख दू सोर ऋष्ट दू कि यद मेरौ आस्से जडे सर- कारी भेंट है। लेकित जानशंकरके अन्तिम शब्दोंने इन भाव- नार्भोकरो पद्दछित सर दिया ! विरोपतः कादिरमियांका अपमान असुद्य हो गया। तेवर चद्लकर योछा, दादा, इस दरवारसे अब द्या घम 55 गया। चलो भगवानकी जो इच्छा होगी धह होगा । जिसने मुह चोरा है पह खानेकों मी देगा ¦ नदीं तो भील, प्रदेश तो फहीं नहीं गया है | यह ककर उसने कादिरका हाथ पकड़ा ओर उसे जवरदस्ती खींचता हुआ दीवानखानेसे बाहर निकल गया। शानशहुरकों इस खमय इतना क्रोध आ रहा था कि यदि काननका भय न होता + तो वह उसे जीता चुनवा देने । अगर इसका कुछ अ'श मनोहरको डांटने फट कारनेमें निकल जाता तो कदाचित्‌ उसकी ज्वा कुछ शान्त-हो जाती, किन्तु अब उसे हृदयमें खोलनेके सिधा निकलनेका कोई रास्ता न था। उनकी दशा उस बालककी-सी - हो रदी थी जिसका हपजोली उसे दात काटकर भाग गया हो । इस छामसे उन्हें शान्ति न होती थी कि यै इस भयुष्यके भाग्यका परिधाता हूं, आज इसे पेरोंतले कुचछ सकता हूं। क्रोधकों डुर्वचनसे विशेष रुचि होती है। ज्वालासिंद मौनी बने वै थे उन्दे' आश्चय्यं हो रदा था कि श्ानशदभरे इतनी दयाहीन स्वार्थपरता कदसि आ , ययी 1 अभी क्षण भर पहले, यह मदाशय न्याय और छोकलेबाका कैसा महत्वपूर्ण उल्लेख कर रहे थे। इतनी ही देरमें ,यह कायापलट !




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now