वायुमंडल | Vayumandal

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : वायुमंडल - Vayumandal

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सालगराम भार्गव - salgaram bhargav

Add Infomation Aboutsalgaram bhargav

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
बिपय-प्रवेश | १७ उल्काये हम प्रायः आक्राशर्मे तारे दृटते हुये देखते हैं। थह पत्थरके वदे-वदे टकडे है जो आकाशम चकर लगाते रहते हं भोर पृथ्वीके वायुमंडमे पृथ्वीके गुरत्वाकषण (£781- 18110703 से श्रधिक वेगवान हो जाते ह । उस समय इनका वेग छगसग १५ य २० मील प्रति सेकेंड होता है | इनके अधिक बेगके कारण वायुके धषंणसे यह इतने श्रधिक गरम हो जाते हैं कि चमझने लगते ह अतः हम হুল देख सकते हैं। इन्हींको उद्का (17161९07 ) कहते हैं। इन उल्काओंके पथ तथा किरण-चित्रसे वायुमंडलके ऊपरी रतरांका घनत्व तथा बनावट निकाली जा सकती है । लिडमन ( 1.17001141 ) भौर डाबसन ( 1)0)807 ) ने टत्काओंके पर्थोररी जाँचसे यह माछस किया है कि ऊपरी सतरोंका तापक्रम २०*श के लगभग मानना पड़ेगा । ञ्योतिय | यह बात सबको विद्ित है कि धथ्वीके श्लुवोके निकट घः मास लगातार रात तथा दः मास लगातार दिन होता दै । वषं रामे মিজু अंधकार नहीं रहता बल्कि कभी- कमी पीडी या नारंगी रंयकी दीप्यमान ऽ्योतिरथौ दृष्टिगोचर दोती हैं। उत्तरी भ्ुवकी ज्योतियोको सुमेरुज्योति (3 ७1018 100769)18) तथा दक्षिणी भ्रुवकों ज्योतियोंको -कुमेर-




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now