मुनिसम्मेलन | Munisammelan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Munisammelan by अज्ञात - Unknown
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2 MB
कुल पृष्ठ : 58
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अज्ञात - Unknown

अज्ञात - Unknown के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
रण वल्लभविजयजीने मुनिर्मडलके ध्यानकों आकार्ष्त कर कहा कि शाख्राज्ञाचुसार साधुको दोसे कम और साध्वीयोंको तीनसे कम नहीं रहना चाहिये. जहां कहीं इस शाख्राज्ञासे विपरीत हो रहा है वहां स्वछ॑ंदता आदि अनेक दोषोंका समावेश हुआ नजर आ रहा है अतः इस बवातमें श्रावक छोकॉंकाभी कच्तेव्य समझा जाता है कि जव कभी किसी अकेले साधुकों देखें तो शीघ्रही उसके गुरु आदिको खबर कर दे देवें ता कि एकल विहारियोंको कुछ ख्याल होवे. परंतु श्रावकोंको उपाश्रयका दरवाजा खुढा रखना और सो डेब्सी रुपये की पयुषणाके दिनोंमें पैदायश करनी इस . बातकाही ख्याल नहीं रखना चाहिये प्रस्ताव चौथा. ४ कोई साधु जिसके पास आप रहता हो उससे नाराज होकर चाहे जिस किसी अपने दूसरे साधुके साथमें जा पिले तो उसको बिना आचाये महाराजकी आज्ञाके अपने साथ हरगिज न मिलावे यह नियम मुनिश्री विमलविजयजीने पेश कियाथा जि- सको मुनिश्नी जिनविजयजीने पुष्टि करते हुए कहा फके पूज्य मुनिवरों मुनिश्री विमलविजयजी महाराजने जो प्रस्ताव पेश किया है इसपर मुनि सम्पेलनको विचार




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :