कृष्ण स्मृति | Krishna Smrati

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Krishna Smrati by आचार्य श्री रजनीश ( ओशो ) - Acharya Shri Rajneesh (OSHO)

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

ओशो (मूल नाम रजनीश) (जन्मतः चंद्र मोहन जैन, ११ दिसम्बर १९३१ - १९ जनवरी १९९०), जिन्हें क्रमशः भगवान श्री रजनीश, ओशो रजनीश, या केवल रजनीश के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय विचारक, धर्मगुरु और रजनीश आंदोलन के प्रणेता-नेता थे। अपने संपूर्ण…अधिक पढ़ें


पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कृष्ण स्मृति कृष्ण-स्मृति ओशो द्वारा कृष्ण के बहु-आयामी व्यक्तित्व पर दी गई 21 वार्ताओं एवं नव- संन्यास पर दिए गए एक विशेष प्रवचन का अप्रतिम संकलन। यही वह प्रवचनमाला है जिसके दौरान ओशो के साक्षित्व मे सन्यास ने नए शिखरे को छने के लिए उतोरणा ली और नव संन्यास अंतर्गष्ट्रीय की संन्यास -दीक्षा का सूत्रपात हुआ। भूमिका सुप्रसिद्ध कवि एवं लेखक डा. दामोदर खड़से एम.ए.एम .एडपीएच . डी. कृष्ण स्मृति हीरे जो कभी परखे ही न गए. ओशो पूणता का नाम कृष्ण जीवन एक विशाल कैनवास है जिसमें क्षण-क्षण भावों की कचौ से अनेकानेक रेग मिल-जुल कर सुख-दुख के चित्र उभारते है। मनुष्य सदियों से चिर आनद की खोज में अपने पल-पल उन चित्रो की बेहतरी के लिए जुरात है। ये चत्र हजारों वर्षो से मानव- संस्कृति के अंग बन चुके हैं। किसी एक के नाम का उच्चारण करते ही प्रतिकृति हेसती- मुस्काती उदित हो उठती है। आदिकाल से मनुष्य किसी चित्र को अपने मन में बसाकर कभी पूजा तो कभी आराधना तो कभी चिंतन- मनन से गुजरता हुआ ध्यान की अवस्था तक पहुंचता रहा है। इतिहास में पुराणों में ऐसे कई चित्र हैं जो सदियों से मानव संस्कृति को प्रभावित करते रहे हैं। महावीर क्राइस्ट बुद्ध राम ने मानव - जाति को गहरे छुआ है। इन सबकी बातें अलग-अलग हैं। कृष्ण ने इन सबके रूपों - गुणों को अपने आपमें समाहित किया है। कृष्ण एक ऐसा नाम है जिसने जीवन को पूर्णता दी।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :