प्रेम रंग रस ओढ़ चादरिया | Prem Rang Ras Odh Chadariya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Prem Rang Ras Odh Chadariya by आचार्य श्री रजनीश ( ओशो ) - Acharya Shri Rajneesh (OSHO)

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

ओशो (मूल नाम रजनीश) (जन्मतः चंद्र मोहन जैन, ११ दिसम्बर १९३१ - १९ जनवरी १९९०), जिन्हें क्रमशः भगवान श्री रजनीश, ओशो रजनीश, या केवल रजनीश के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय विचारक, धर्मगुरु और रजनीश आंदोलन के प्रणेता-नेता थे। अपने संपूर्ण…अधिक पढ़ें


पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्रेम रंग रस ओढ़ चदरिया जग मैं जै दिन है जिंदगानी। लाड लेव चित गुरु के चरनन आलस करहु न प्रानी।। या देही का कौन भरोसा उभसा भाठा पानी।। उपजत मिटत वार नर्हिं लागत क्या मगरूर गुमानी।। यह तो है करता की कुदरत नाम तू ले पहिचानी।। आज भलो भजने को औसर काल की काहु न जानी।। काहु के हाथ साथ कछु नाही दुनिया है हैरानी।। दूलनदास विस्वास भजन करू यहिं है नाम निसानी॥। जोगी चेत नगर म रही रै। प्रेम रंग-रस ओदर चदरिया मन तसबीह गहो े।। अंतर लाओ नामहि की धुनि करम-भरम सब धो रे।। सूरत साधि गहो सतमारग भेद्‌ न प्रगट कहो रे।। दूलनदास के साई जगजीवन भवजल पार करो रे।।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :