वक-संहार | Vak-Sanhara

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : वक-संहार  - Vak-Sanhara

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
बकन्संहार ट्विजवये फिर कहने लगा, करुणाश्रु जल बहने छगा $७- ४डालो न मुझको मोह करके मोह में। यह कथन है समुचित तुम्हें , है दष्ट मेया दहित तुम्हें; पर लाभ क्‍या इस व्यथे के विद्रोह में ? पाणिश्रहण जिसका किया , सव भार जिसका है लिया ; कैसे उसे में सत्यु-मुख में छोड़ दूँ? ২. 1 दोमाप्रि सम्मुख विधिविहित.-, ५ जिसको किया निज सें निहित , सस्बन्ध उस सहधम्पिणो से तोड़ दूँ? ब्रह्मणि, सुनो, रोश्रोनयो, धीरज धरो, खोच्मो नयो, निज हित इसमें तुम भले ही मान लो। जो आप वक की वलि वनो), लव पुत्र-सा कुल-हित जनो। प्र धमे मेरा क्‍या? इसे भो जान छो |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now