जाहिर उद्षणा | Jahir Udgohna

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : जाहिर उद्षणा -  Jahir Udgohna

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गौतम मुनि - Gautam Muni

Add Infomation AboutGautam Muni

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हिर उद्या. य्‌ =, न्य क चत्ता चटोरा शर्ठेता ले जासधकू दोक्र देमानिक देवठो कर्म रपशपदा उत्पन्न हाता- इसालय सामद तापसरू काष्टमुद्रास ५/1. % (५, ५ 6५ | ४ ¢ 4 देऽन रटत यतदारूर इद्दियेटय हमेशा सुदपत्ति दाध्ङ्ा उदरते => भ, ष ण अणनाा्वन <स नथ 1दराघना ण द. खा घत्यस् दा घाजनश्दर भगयदान का साशाकावयघना च्ह्रक् परिस्पात्दी यनतद 1 ॐ. फिरभी दाछिय उसे उस देदठाने सोमिटको निश्पात्दी से दड्दारूर सम्पगधर्म में पोछा स्पारन फ्िया- इसी तरदसे सिमिभ्दर ममपदान पे भरू सब अनियोका यददी चर्तच्प्ड छि- सोमिलझी तरद चमेरा सुदुपत्ति धांघने दाले टूडियोक इस दिप्यात्वी श्याप्षो छिसी सी तरद दद्दर उन्हे दिनाशासुसार सम्पयधर्मम सथापन करे साराधक यमन तो दा सलाम होगा 1 चहल ओ < ददिरे दवे किन “मदा निशीय” सके ७ दे अष्ययनमें जय, चः क [प क ७ ऋ, दिखःदे ङ्गि- रुदपति सघदिना शरदिष्त्मयः कर, दाना देदे-टड, सा दम्य देधे खा द्रिदादष्टीकरे खो पुरिमा शपपस्िच सावे. पेता रर- के ष्टर ररर सददपत्ठ यापना ददटयतट्‌ समा परत्य द्ट्ह, प्त्याझि सदनिससीथ दशक, व खष्ददनन्र इटोदयाङ््‌ सथिरम मुटपदिल्नि सरन डटर साने र्त्त दिना साथु प्दिशमयाडि किया करे तो उस के क 4 # प म, णः शटा पुःरम्दह्ा दारश्िच सादे मग्र मुदे रदशर उषरारस काद खरे ता शार नरी. श्त सरेरा दना नटा उदर सद्दा. दर छद्- क कभु क टेप पर दा सइसदरट दयाशइयटः इारपदयार-इउउगमे इमय्यरड पुपरन दे इस धाफ्य का भादरथ पसा शासाइ 1 झ-नायरों डारर पीछ उपधप में साई याद यसनागसन को ध्ासदयटा करनेके लिये इरिपायडोी करने याला साथ पनाइदर सुरिको मुंद के रपये साड़ी दातकर कानोरर रगसरझर इरिपरदटो करे तो उस को लिच्छासिदुडडेशर शधद स्मये भर स^ ईरः र्दः भ्र सराय र्त <न श्ारयदःर्रा श्र दा दरररः पारस द क्णो कः <> र्य = सत्र ड, रन स ङ्न्य च 2 बन ये मादाधस ब्यद- इसतर इस दाना दादाइ टिद दा सरदक बटग दू शदः १ ण्ह क सर तर्का ग्द =२२ (>~ {दन्‌ु र र स्य प्र 9 य ~ ५ * एर म्दध्दश्दं ददशा दद्र रनः उरष्ट ङा स्टार र्द्रा केव स न ॐ न कक का [= श [ } पड नल सगाइ द्नेदक्र इग मपर दल दनः द्र खः म र 2 ॥ १ * व तताः खा एरर छाझास्डनल (८्यद्ा इर 1 रमच्छााम उुईइइइर ८ रत क ध्टायास्टन स




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now