ग्रामशाला ग्रामज्ञान | Gramshala Gramgyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : ग्रामशाला ग्रामज्ञान  - Gramshala Gramgyan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्रामशाक्षा प्रामज्ञाय इसे बनायें इसे सये बढ़िया पढ़िपा घास उगायें | हन पर रोज खरहरा दोगा सेवा का प्रत मेरा दोगा। गठश्ाठा को साफ फरूंगा मू धृष नरि मार करूंगा । रोज करूंगा रोज करूंगा बड़े सबरे मोर करंगा। ग्या मां इख से सोयेगी खूब शप्र मह दुमा एरगी मेरी पढ़ाई खूब 'चछेगी । मेरी फुलवाढ़ी खूब भड़गी । इम सब रोख नदहात र गपा भी रोज नहानी होगी । इम समर रा्ामद्याहें तो ह मां गहया-रानी दगी। गठ माषा सताप इने पुन्य शो प्राप श्नेय। स अन 9




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now