दिगंबर मुनि का साहित्य | Digambar Muni Ka Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Digambar Muni Ka Sahitya by रवीन्द्र कुमार जैन - Ravindra Kumar Jain

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्र कुमार जैन - Ravindra Kumar Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
[৩]अनुयोगो के परिप्रेदय में भ्रकानित होकर हजारो पाठका कै रिए्‌ उनकी विभिन्न रुचियो का प्रतिनिधित्व करती है । इसकं पठन पाठन से सेक्डा परिवारां पर आाइचयंकारी सातिशय प्रभाव पडे हैं।आशा है मा श्रो ज्ञानमती जी का यह साहित्य आगामी अतत पोटिया का महात्‌ उपकार करेगा मोर यह्‌ दिगम्बर मुनि ग्रथ जीवो के लिए मोक्षपथ का साधन बनेगा ।जनकीति स्तम्भ रोड दिमछकुमार ऊँत सोंरया टीकमगढ़ আগ হল एम० ए० घास्त्री € ९ ८० प्रतिष्ठाचाय




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :