आस्था के स्वर | Aastha Ke Swar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Aastha Ke Swar by श्याम विद्यार्थी - Shyam Vidyarthi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्याम विद्यार्थी - Shyam Vidyarthi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ध৮11.॥ १ १जेশ্রী তত ৮বলज न प स्थाई(এनालन्दा ओः तक्षशिला के इन दृद पाषाणो मे, छिपी पड़ी ই ज्ञान सपदा धूल धूसरित अवशेषो मे ।बड़े बडे ज्ञानी रहते थे नतमस्तक इनके मान में, आँसू की दो बूँदें ही अब तत्पर स्वागत गान में । उस अतीत में स्वर्ण विहग सा देश कहा जाता मेरा,उसका वह वैभव वह गौरच क्यों नहीं रहा होकर मेरा ?जग ऑगन में मधुर मधुर कलरव करता था खग मेरा | हाय कौन-सा क्रूर श्येन ले गया छीन पछी मेरा ।उसके तेजस्वी स्वरूप को करता प्रणाम मन मेरा । उसके मनहर सुन्दर आनन हित चकोर मन मेरा |कटां गया बल रूप तेजं चह यही खोजता मन मेरा, लौटा दो फिर कालदेव तुम यही चाहता मन मेरा ।ऋ के स्वर / ४




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :