कठोपनिषद प्रवचन - द्वितीय प्रवाह | Kathopanishhda Pravachana - Dwitiya Prawah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : , ,
शेयर जरूर करें
Kathopanishhda Pravachana - Dwitiya Prawah by अखंडानंद सरस्वती - Akhandanand Saraswati
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
24 MB
कुल पृष्ठ :
776
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अखंडानंद सरस्वती - Akhandanand Saraswati के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
तमेव विद्धान्‌ अमूत इहं भवन्तिओर तमेवं वेदानुवचनेन ब्राह्यणाः विविदिहान्ति ।तुम हमेशा यह मन्त्र पढ़ते हो : वेदाहमेतं पुरुषम्‌ महान्तम्‌ आदित्यवर्ण तमसः परस्तात्‌ । ओरतदेब विदित्वा अति-सृत्युमेति ।मृत्युम्‌ अत्येति >अम्ृतों भवति। उसे जानकर अमुत हो जायगा । किसको ? मन्त्रके पूर्वाद्धेमें जिसको 'एतम्‌' कहा गया है उसीको उत्तराद्धमें तम' कहा गया है । अर्थात्‌ जो 'तत्‌” पदका अर्थ है, परोक्ष वही एवम पदका अथं है अपरोक्ष । अर्थात्‌ आत्मा-परमात्माकी एकत्ताको जानकर मृत्युका अतिक्रमण होता है। जड़में मृत्यु है, उसका अतिक्रमण हो जाता है ओर दुःखमें मृत्यु है, उसका भी अतिक्रमण हो जाता है। हम देश-काल-वस्तुकी परिच्छिन्नतासे, असत्‌-जड़-मृत्युसे मुक्त हो जाते हैं ।वेदान्तविचारमें अमृत्तत्वकी प्राप्ति केसे होती है ? यह अमृत क्‍या है ? विषयीलोग कहते हैं--“जब हम विषयमोग करते हैं, तब विषयको निचोड़कर उसमें-से रस-स्वाद और सुख पाते हैं।' वे कहते हें--पहाँ हम धर्म करते हैं तो परिश्रमप्ते उपाजित धर्म- विश्राम इन दोनोंके द्वारा एक नवीन अमृतको उत्पन्न करते हैं ओर उसे स्वग॑में पते हैँ । उपासक रोग कहते है--'हम भावनासे एक अमृत उत्पन्न करते हैँ गौर उसका आस्वादन करते है ।'कठोपनिषद्‌ : १ ७३७ ४७




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :