फाणटामारा | Phantaamara

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Phantaamara by श्यामू संन्यासी - Shyamu Sainasi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
13 MB
कुल पृष्ठ :
201
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्यामू संन्यासी - Shyamu Sainasi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
( ५ |बाद दूसरी ओर एक वाक्य के बाद दूसरा वाक्य रखने की कला, बुनने' की प्राचीन कछा के सटश है--उस पुरानी कछा के समान जिसमें एक धागे के बाद दूसरा धागा और एक रंग के बाद दूसरा रंग सफाई से, सलीके से, संभालकर रखा जाता है, ताकि सब साफ़-साफ़ देख सके । पहले गुलाब का तना दिखाई देता हे, फिर पत्तियाँ, तब कछी और अन्त में पंखुड़ियाँ। आरम्भ से ही दीख जाता है कि यह गुलाब का फूड होनेवाखा है, ओर इसी कारण से शहराती हमारी कृति को भरी ओर असंस्कृत समञ्चते ह । परन्तु कया कमी शहर मे जाकर हमने उसे उनके द्वाथ बेचने की कोशिश की है ? कभी उन्हें बाजारमे भी रखा हे ! कभी शहरातियों को हमारी तरह बोलने के लिए कहा दे! नहीं, कभी नहीं !तो, प्रत्येक आदमी को अपनी बात अपने ही ढंग से कहने का अधिकार रहे |ज्यूरिच, ग्रीष्म, १९३० इग्ताज़ियो सिलोनी




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :