विज्ञान परिषद् अनुसन्धान पत्रिका | Vijnana Parishad Anusandhan Patrika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vijnana Parishad Anusandhan Patrika by आर. के. सक्सेना - R. K. Saxena
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
6 MB
कुल पृष्ठ :
75
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आर. के. सक्सेना - R. K. Saxena के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
गिरिडीह के लोगो में 7## घटतनाओं की गणना 211/#- माताओं के कल गर्भे में--(1) 245 (42) 2 फेक्टर उत्पन्न करेगा ओर (2) शेष जाघा 743 (74) 10249 (707) 7%+ फैक्टर उत्पन्न करेगा ।अतः(1) _ एक _ 270947702৫5 - __ 74: 170510৫৯778 ৫5गा , 20 (4 1-41-2)দি 414174, 4+ 1 हु सिद्धान्ततः 2 माँ गर्भवती होने पर ##- फैक्टर उत्पन्न करती है जो पूर्णतः सुरक्षित है । 3 242 2 243-1-7:4 ৩) 5 7৫১17%৫5_ 7৫: (৫7) 247--747*--7*4*__ 274 (4--7) 24: (41-41-60)777 ৫7777 _ 1 ৫47]अत: 7 माँ गर्भवती होने पर “#' फैक्टर उत्पन्न करती है जो भ्रूण के लिए घातक है। अब ] ]1 74-17-4717 0:0724-1इसलिए 2 गर्भवती माताएँ 92% स्थिति में फिटस के लिए हिमोलायटिक उत्पन्न करेगी । इससे यह्‌ गणना की जा सकती है कि 10000 गर्भो मे 720 केसो मे छ मां होगी मौर उनमें से 92%-50.924




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :