जनसंख्या वृद्धि एवं कृषि उत्पादकता नियोजन | Jansankhya Vradhi Avam Krashi Utpadkata Niyojan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Jansankhya Vradhi Avam Krashi Utpadkata Niyojan by शालिग राम रजक - Shalig Ram Rajak
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
47 MB
कुल पृष्ठ :
346
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

शालिग राम रजक - Shalig Ram Rajak के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
6.2 शस्य क्रम गहनता 2001-02 1726.3 मुख्य फसलों कं अन्तर्गत क्षेत्र का वितरण 2001-02 : (प्रतिशत) 177 6.4 शस्य सम्मिश्रण प्रदेश (2001-2002) 186 7.1 फसलों में उर्वरकों का प्रयोग,लक्ष्य एवं पूर्ति 2001-02 193 7.2 क्षेत्र में संस्थावार उर्वरकों की उपलब्धता 2001-02 (मी0टन) 194 7.3 विकास खण्डवार.संस्थावार उर्वरकों का वितरण (2001--02) इकाई मी0टन 198 7.4 कृषि रक्षा कार्यक्रम 2001-02 201 7.5 कृषि रक्षा रसायनों की खपत वितरण 2001-02 207 76 खरीफ की फसलों के उन्नतिंशील बीजों की उपलब्धता एवंवितरण 2001-02 210 7.7 रबी की .फसलों के उन्नतिशील बीजों की उपलब्धता एवं |वितरण 2001-02 212 7.8 विविध योजनाओं के अन्तर्गत नवीन कृषि यन्त्रं का वितरण2001-02 (संख्या) 215 7.9 2001-02 का मृदा परीक्षण एवं गत वर्षो की तुलना 218 7.10 क्षेत्र में नवीन प्रजाति की फसलों का उत्पादन 220 7.11 विकास खण्डवार विविध फसलों का उत्पादन (2001-02) मी0टन 221 8.1 सन्‌ 1950 से 1960 तक के कृषि योग्य भूमि एवं अन्य भूमियों में हैवृद्धि एवं हास (प्रतिशत) ध ` 228 8.2 सन्‌ 1960 से 1970 तक के कृषि योग्य भूमि एवं अन्य भूमियों मेंवृद्धि एवं हास (प्रतिशत) 231 8.3 सन्‌ 1970 से 1980 तक कं कृषि योग्य भूमि एवं अन्य भूमियों मेंवृद्धि एवं हास (प्रतिशत) 2348.4 सन्‌ 1980 से 1990 तक के कृषि योग्य भूमि एवं अन्य मूमियों में वृद्धि एवं हास (प्रतिशत)8.5 सन्‌ 1990 से 2000 तक के कृषि योग्य भूमि एवं अन्य मूमियों में वृद्धि एवं हास प्रतिशत)237.240




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :