जनपद जालौन में व्यवहत बोली की व्याकरणिक कोटियों का विश्लेषणात्मक अध्ययन | Janpad Jalaun Mein Vyavahat Boli Ki Vyakarnik Kotiyon Ka Vishleshanatmak Adhyyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Janpad Jalaun Mein Vyavahat Boli Ki Vyakarnik Kotiyon Ka Vishleshanatmak Adhyyan by श्वेता दीक्षित - Shweta Dixit
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
52 MB
कुल पृष्ठ :
250
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्वेता दीक्षित - Shweta Dixit के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(4)बंधौली, जमरोही तथा ददरी आदि गाँव बसे हुए है। यह नहर सिंचाई की दृष्टि से अधिक उपयोगी है। इस नहर की दो शाखायें हैं- प्रथम कुटौद शाखा, दितीय हमीरपुर शाखा । इन दोनों शाखाओं की लम्बाई 1500 किमी0 हे । स. पहूज - यह नदी मध्य प्रदेश से आकर झाँसी जिले में प्रवाहित होती हुई जनपद के विलौँड ग्राम के समीप यमुना नदी में समाहित हो जाती है। इस नदी कं किनारे भी ऊबड़-खाबड़ हें । मुख्य रूप से इस नदी के किनारे पर बसे हुए सलैया, महशपुरा, नदीर्गोव, गोपालपुरा तथा ऊँचा आदि गौँवदहें। जगम्मनपुर से 4 किमी0 पश्चिम में ग्राम कंजौसा में पाँच नदियों (यमुना,चम्बल, क्वांरी, सिन्ध व पहूज) का संगम हुआ है। यह स्थान “पचनदा” कहलाता है|पौराणिक दृष्टिसे इस घाट पर स्नान-दान की परम्परा पुण्यप्रद मानी जाती है। यहाँ... पर पाँचों नदियों की धाराओं को मकर संक्रान्ति के दिन सूक्ष्मता से देखा जा सकता प है | पचनदे के समीप सेंगर क्षत्रियो কী শী ই|1 मिट्टी -यहाँ पर काबर (हल्के रंग की काली मिटटी), मार, पड्वा तथा रांकड़ किस्म `की मिटटी पाई जाती है। नदियों के किनारे अधिकांश ककरीली रांकड मिटटी होती ६है। यह पूर्णतः अनुपजाऊ तथा कड़ी होती है । कही-कहीं कंकड़ इकट्ठा कर चूना बनालिया जाता है। मार मिट्टी कारंग काला होता है। यह चिकनी हौती है। विकनाहट के |कारण इस मिट्टी में नमी अधिक दिनों तक संचित रहती है, इस मिट्टी में गेहूं की | जालौन जिले का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन, ड०0 राजू विश्वकर्मा, जीवाजी | विश्वविद्यालय, ग्वालियर की पी-एचण्डी0 उपाधि हेतु स्वीकृत अप्रकाशित शोध ;




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :