लॉ ऑफ़ प्लेडिंग्स इन हिंदी | Law Of Pleadings In Hindi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Law Of Pleadings In Hindi by श्यामकृष्ण दर - Shyamkrishna Dar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्यामकृष्ण दर - Shyamkrishna Dar

Add Infomation AboutShyamkrishna Dar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
घिपय ( २४ ) (३ ) वेहोशी की दशा से लिखाये हुये वसीयतनामे को मंसूख कराने के लिये ( ४ ) नावालिग से लिखाये हुये वरैनासे कौ मंसूख) के लिये ( ५ ) मठे बयान शरोर धोखे से लिखाये हुये दस्तावेज की मसखी. के लिये परदा नशीनस्वीकादावा ,.. (ই) अनुचित दबाव डाल कर परदानशीन स्री ते लिखयि ह्ये दस्तावेज कौ मंसूखी के लिये इ (৩) धोखे से लिखाये हुए दस्तावेन के मसू करने के लिये (८) धोखे से लिखाये हुये दस्तावेज के सशाधन के लिये २२- प्रतिज्ञा को वशेष शति ( 59००1० 7১011070130 ) प्रारम्मिक नोट ( १) बिक्री करने की प्रतिज्ञा की पूर्ती के लिये (२) हि রী दूसरा दावा ( ३ ) खरीदार का मुआहिदे की तामील के लिये (४ ) इसी प्रकार का सुलहनामे के आधार पर (५ ) खरीदार का वेचने वाले पर प्रतिज्ञा की पूर्ति के लिये... (६ ) खरीदार का वेचने वाले और परिवर्तन से पाने वाले पर पूर्ति के लिये दावा (७ ) बिक्री को निश्चय-प्रतिज्ञा से सूचित विक्रीकर्ता और खरीदार के ऊपर दखल के लिये दावा (८) प्रतिश की पूर्ति के लिये परिवतेन कर्ता और खरीदार पर २३-- २६--[.हन सम्बन्ध|वाद-- २३-जायदाद के नीछाम के छिये दावे प्रारम्भिक नोट ( १ ) नीलाम के लिये साधारण वाद (२ ) रहन ग्रहीता के उत्तराधिकारी की ओर से, रहनकर्ता के उत्तराधिकारी पर, सम्पत्ति के नीलाम के लिये ( ३ ) इसी प्रकार को रइनकर्त्ता के ऊपर, रहननामे के खरीदार ग शरोर से (४ ) मुतहिन के प्रा की ओर से रादिन व इजर।य डिगरी से खरीद्र के ऊपर नालिश উঃ (४ ) रहन ग्रहीता का हिन्दू रहनकर्ता और उसके कुटम्ब के सदस्यों पर सम्पत्ति के नीलाम के लिये पर १६८ २०० २०२ २०३ २०४ २०४ २०५ २०६ २०७ २०८ २०६ २१० २११ ११३ २१५ २१७ २१८ २१६ २९९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now